भारत के पहले क्वॉलिटी सर्टिफाइड और यूजर रेटेड प्राइवेट ट्यूटर्स के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म ने ट्यूटर्स को चुनना बनाया सरल

0 94

नई दिल्ली, 4 सितम्बर:   नए ट्यूटर की तलाश करना आसान काम नहीं है। विश्नसनीयता, ट्रैक रेकॉर्ड, सुरक्षा और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने की चिंता से जूझ रहे पैरंट्स अच्छे ट्यूटर के बारे में एक-दूसरे से पूछते रहते हैं, स्थानीय अखबारों को खंगालते रहते हैं और इंटरनेट पर सर्च करते हैं, लेकिन अब उन्हें इतनी ज्यादा कवायद नहीं करनी पड़ेगी। दिल्ली बेस्ड स्टार्ट अप ने एक अनोखा डिजिटल एकीकृत प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है, जहां पैरंट्स और स्टूडेंट्स अपने इलाके में ट्यूटर्स की तलाश कर सकते हैं और हर ट्यूटर के पिछले रिव्यू और रेटिंग के आधार पर अपने लिए उन्हें चुन सकते हैं। वे गुरक्यू के सर्टिफाइड ट्यूटर विकल्पों में से प्राइमरी, सेकेंडरी, हायर सेकेंडरी और अंडरग्रेजुएट कोर्सेज, जिसमें सीबीएसई, आईसीएसई और आईबी बोर्ड के साथ एसएटी, जीएमएटी और जीआरई कोर्सेज के कोर्स भी शामिल हैं, के लिए अपनी जरूरत के हिसाब से ट्यूटर्स का चुनाव कर सकते हैं।

गुरुक्यू के सभी सर्टिफाइड ट्यूटर्स को 4 चरणों की कठोर जांच प्रक्रिया से गुजरना होता है, जिसमें योग्यता का टेस्ट, ऑनलाइन और ऑफलाइन इंटरव्यू और बाहरी एजेंसियों की ओर से किया गया पूरा बैकग्राउंड चेकअप शामिल है, जिससे सुनिश्चित होता है कि छात्रों का भविष्य सुरक्षित हाथों में है।

इस मकसद के लिए गुरु क्यू सबसे अलग विकल्प पेश करता है। क्योंकि यह भारत का पहला प्लेटफॉर्म है, जहां कोई भी व्यक्ति क्वॉलिटी सर्टिफाइड और यूजर्स की रेटिंग के आधार पर ट्यूटर का चुनाव कर सकता है। इसके अलावा पैरंट्स और स्टूडेंट्स भी अपने व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर ट्यूटर की रेटिंग कर सकते हैं। इससे ट्यूटर की तलाश कर रहे दूसरे पैरंट्स को संबंधित ट्यूटर्स से ट्यूशन ले चुके छात्रों और उनके अभिभावकों की राय पढ़कर और रेटिंग को देखकर सोच समझकर फैसला लेने में मदद मिलती है। गुरुक्यू पैरंट्स को आटोमैटिकली रेकॉर्डेड किए गए सेशन से ट्यूटर्स का मूल्यांकनकरने की भी इजाजत देता है, जिससे उनके फीडबैक से पूरे लर्निंग सिस्टम को सुधारने का आधार तैयार किया जा सके।

आठवीं क्लास की स्टूडेंट की पैरंट्स श्रीमती शारदा शर्मा ने हाल में ही गुरुक्यू ट्यूटर सर्विसेज का विकल्प अपनाया है। उन्होंने कहा, “मैं अपने बेटे के लिए ट्यूटर की तलाश कर रही थी, लेकिन इसके लिए मुझे लोगों की सलाह पर निर्भर रहना पड़ता था या इंटरनेट से ट्यूटर की तलाश करना पड़ती थी। गुरुक्यू से यह प्रक्रिया काफी आसान हो गई है क्योंकि अब मैं दूसरे लोगों की राय और रिव्यू पढ़कर ही ट्यूटर का चुनाव करती हूं। अब ऐसे ट्यूटर पर विश्वास करना ज्यादा आसान हो गया है, जो पहले से सर्टिफाइड है और एक टीम की ओर से उसका रिव्यू किया गया है, जिससे ट्यूटर का बैकग्राउंड चेक करने की परेशानी से पैरंट्स को छुटकारा मिल जाता है।“

गुरुक्यू एक सिंगल, सिंपल और स्टूडेंट्स को ट्यूटर से जोड़ने वाली शिक्षा तकनीक का समाधान पेश कर उनकी जरूरतों को पूरा करता है। इससे  छात्रों को ऑफलाइन और ऑनलाइन ट्यूटर मुहैया कराए जाते हैं। इससे छात्रों को अपने खाली समय के अनुसार अलग-अलग विषयों की ट्यूशन लेने की आजादी या छूट मिल सकती है। वे जरूरत के अनुसार अपना पूरा शेड्यूल बना सकते हैं। गुरुक्यू छात्रों को टाइम टेबल मैनेज करने और अपनी प्रगति का मूल्यांकन करने में भी सहायता देता है।

गुरु क्यू का कुछ समय से इस्तेमाल कर रहे नौवीं क्लास के स्टूडेंट गौरव सिंह कहते हैं, “गुरुक्यू ने मेरी बहुत मदद की है क्योंकि मुझे यह चुनना पड़ता है कि मुझे कब ऑनलाइन क्लास अटेंड करनी है और कब मुझे ऑफलाइन क्लास में जाना है। गुरुक्यू के विकल्प को आजमाकर मैं सर्टिफाइड ट्यूटर्स की लंबी-चौड़ी रेंज में से अपनी पसंद के ट्यूटर का चुनाव केवल एक क्लिक में कर सकता हूं। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि मैं अब अपने क्लासेज के शेड्यूल को मैनेज कर सकता हूं। इससे मुझे ऑनलाइन असाइनमेंट भी मिल जाते है।“

गौरव सिंह ने ऑनलाइन असाइनमेंट के संबंध में एक प्रासंगिक बिंदु पेश किया है, जो बड़ी क्लासेज के स्टूडेंट्स के लिए काफी महत्वपूर्ण है। इससे जहां उनके मूल्यवान समय की बचत होती है, वहीं वे अपनी प्रॉडक्टिवटी भी बढ़ा सकते हैं।

जो पैरंट्स अपने बच्चों की पढ़ाई और विकास को लेकर चिंतित रहते है,उनके लिए गुरुक्यू एक ऐसा सिस्टम पेश करता है, जिससे वह अपने बच्चों की परफॉर्मेंस और उनकी प्रोग्रेस रिपोर्ट पर लगातार नजर रख सकते हैं।

बोस्टन यूनिवर्सिटी से शिक्षित, वित्तीय क्षेत्र के प्रमुख कारोबारी और गुरुक्यू के संस्थापक और सीईओ मीनल आनंद का मानना है कि गुरु क्यू जैसे प्लेटफॉर्म ने ट्यूटर्स की तेज गति से तलाश करने में स्टूडेंट्स की मदद की है। श्री आनंद ने कहा,“हम गुरुक्यू की ओर से कॉमन प्लेटफॉर्म मुहैया कराने के आइडिय़ा के साथ आए हैं, जहां छात्र और योग्य ट्यूटर आपस में मिल सकते हैं और उन अनोखे और बेहतरीन टूल्स का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो क्लासेज को आयोजित कराने, शिक्षा के मौजूदा ट्रेंड पर अपडेट मुहैया कराने के साथ ट्यूटर्स से छात्रों के इंटरएक्शन का साधन भी उन्हें मुहैया कराता है। पर सबसे महत्वपूर्ण यह है कि गुरुक्यू एक बेहद सुरक्षित विकल्प है क्योंकि छात्रों और ट्यूटर्स के बीच होने वाली सारी बातचीत को रेकॉर्ड किया जाता है।“

गुरुक्यू ने प्रतिष्ठित संस्थानों के शिक्षाविदों को अपने पैनल में सलाहकार बोर्ड के सदस्यों के रूप में शामिल किया है, जो इन ट्यूटर्स का मार्गदर्शन करने में उनकी मदद करते है।

कंपनी ने हाल ही में धनी और प्रभावशाली व्यक्तियों से सीड फंडिंग के रूप में अघोषित रकम इकट्ठी की है। कंपनी ने दिल्ली-एनसीआर में अपना संचालन शुरू किया है। देश के दूसरे शहरों में भी गुरुक्यू का विस्तार करने की काफी प्रभावशाली और मजबूत योजना बनाई गई है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.