आम्रपली निवेशकों ने निकाली अरमानों की अर्थी, आश्वासनों को बताया लॉलीपॉप, करेंगे आमरण अनशन

0 429

PHOTO.VIDEO.STORY- JITENDER PAL- TEN NEWS

नोएडा। हाथों में लालीपाप और कंधों पर अरमानों की अर्थी लिए यह और कोई नहीं बल्कि आम्रपाली के निवेशक है। रविवार को अरमानों की अर्थी के साथ सैकड़ों की संख्या में निवेशकों ने सेक्टर-62 स्थित आम्रपाली के कॉर्पोरेट ऑफिस से नोएडास्टेडियम तक अपने अर्मानों की शव यात्रा निकाली। इस दौरान निवेशकों ने स्टेडियमपहुंचकर यहां रामलीला मैदान में भूमिपूजन करने आए केंद्रीय मंत्री डॉक्टर महेश शर्मा को भी जमकर कोसा। साथ ही योगी व मोदी सरकार से घर दिलाने की मांग करते हुए लिखित में आश्वासन मांगा।

चार कंधों पर चली अरमानों की अर्थी

सैकड़ों की संख्या में निवेशक दोपहर को सेक्टर-62 स्थित आम्रपाली के कारपोरेट आफिस के घर एकत्रित हुए। यहा से अर्थी को उठाकर स्टेडियम की ओर निकले। अर्थी के साथ योगी-मोदी व केंद्रीय मंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। साथ ही परसो मंत्रियों क समिति के फैसले का विरोध हाथों में लालीपॉप लेकर किया।

निवेशकों को अर्थी के साथ आता देश दूसरे रास्ते से निकले मंत्री
स्टेडियम के बाहर सैकड़ों की संख्या में निवेशक जैसे ही पहुंचे तो वहां सभी ने केंद्रीय मंत्री और आम्रपाली बिल्डर को चोर के नारे लगाए। जिसके बाद महेश शर्मा निवेशकों को आता देख उनसे बिना मिले ही अपनी गाड़ी में बैठकर यहां से निकल गए। जिसके बाद निवेशकों का गुस्सा सातवे आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने मंत्री को भगोड़ा तक कह दिया। इस दौरान निवेशकों ने सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि जब तक हमे कोई लिखित आश्वासन नहीं मिलता हम यहा से नहीं जाएंगे। उन्होंन कहा कि हमारे साथ मजाक हो रहा है। कोई भी आता है हम सभी को कठपुतली की तरह नचा कर चला जाता है।

लिखित आश्वासन नहीं तो आमरण अनशन
आम्रपाली के निवेशकों ने कहा कि अब तक अनशन जारी था। लेकिन अब आमरण अनशन होगा। वह भी एक साथ । जब तक हमारा पैसा या मकान नहीं मिलता हम सभी लोग एक साथ आमरण अनशन करेंगे। निवेशकों ने आरोप लगाया कि वोट मांगने के दौरान सरकार तमाम आश्वासन देती है लेकिन जब बारी आई तो पीछे क्यो हट रहे है।

निवेशकों को अर्थी के साथ आता देश दूसरे रास्ते से निकले मंत्री
स्टेडियम के बाहर सैकड़ों की संख्या में निवेशक जैसे ही पहुंचे तो वहां सभी ने केंद्रीय मंत्री और आम्रपाली बिल्डर को चोर के नारे लगाए। जिसके बाद महेश शर्मा निवेशकों को आता देख उनसे बिना मिले ही अपनी गाड़ी में बैठकर यहां से निकल गए। जिसके बाद निवेशकों का गुस्सा सातवे आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने मंत्री को भगोड़ा तक कह दिया। इस दौरान निवेशकों ने सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि जब तक हमे कोई लिखित आश्वासन नहीं मिलता हम यहा से नहीं जाएंगे। उन्होंन कहा कि हमारे साथ मजाक हो रहा है। कोई भी आता है हम सभी को कठपुतली की तरह नचा कर चला जाता है।

लिखित आश्वासन नहीं तो आमरण अनशन
आम्रपाली के निवेशकों ने कहा कि अब तक अनशन जारी था। लेकिन अब आमरण अनशन होगा। वह भी एक साथ । जब तक हमारा पैसा या मकान नहीं मिलता हम सभी लोग एक साथ आमरण अनशन करेंगे। निवेशकों ने आरोप लगाया कि वोट मांगने के दौरान सरकार तमाम आश्वासन देती है लेकिन जब बारी आई तो पीछे क्यो हट रहे है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.