कंफेडरेशन ऑफ एनजीओ रूरल इंडिया ने कृषि विकास पद्धतियों पर किया संगोष्ठी का आयोजन

ROHIT SHARMA / LOKESH GOSWAMI

293

दिल्ली :– कंफेडरेशन ऑफ एनजीओ रूरल इंडिया , आईएआरआई और आरकेपीए संस्थाओं ने मिलकर दिल्ली में संगोष्ठी का आयोजन किया गया । आपको बता दे कि इस संगोष्ठी सतत विकास लक्ष्यों , भारतीय किसान द्वारा कृषि उत्पादक , लाभदायक और आगे के अवसरों पर चर्चा की गयी।

खासबात ये है कि इस संगोष्ठी में केंद्रीय कृषिराज्य मंत्री परहसोत्तम भाई रुपाला , पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री सोमपाल शास्त्री , पीडब्ल्यूसी के वरिष्ठ अधिकारी यशीर अहमद आदि शामिल रहे।

वही इस संगोष्ठी कार्यक्रम में पूर्व कृषि मंत्री सोमपाल शाश्त्री ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि 50 प्रतिशत मजदूरों का रोजगार अभी भी कृषि में चल रहा है । आज के समय मे देश में 17 प्रतिशत योगदान कृषि है । साथ ही उनका कहना है कि सरकार सिर्फ 30 प्रतिशत हिस्सा ग्रामीण इलाकों में लगा रही है , जिसके कारण आज के समय किसान अपनी मजदूरी भी निकाल नही पा रहा है ।

उन्होंने कहा है कि देश के सैनिक , पुलिस ग्रामीण इलाकों से निकलकर हमारी रक्षा करते है । लेकिन सरकार ग्रामीण और किसान की तरफ सरकार ध्यान नही देगी तो सैनिक और पुलिस आर्थिक व मानसिक रूप से परेशान होगा , क्योंकि उस किसान का बेटा सेनिक और पुलिस विभाग में करता होगा । आज के समय मे किसान पीस रहा है । उस किसान को अपनी लगात भी नही निकाल पा रहा है ।

साथ ही उनका कहना है कि आज के समय मे सरकार को कृषि इलाकों में अपना विशेष कर ध्यान देना चाहिए , हमारे देश में उत्पादक ज्यादा बढेगा तो हमारे देश की अर्थव्यवस्था में भी कुछ सुधार होगा ।

वही केंद्र सरकार के कृषि राज्यमंत्री ने सम्बोधित करते हुए कहा कि इस संगोष्ठी के माध्यम से बहुत से बिकल्प निकलकर आते है । इसलिए ऐसी संगोष्ठी होनी चाहिए। साथ ही उनका कहना है कि देश मे कृषि को लेकर सरकार बहुत ज्यादा ध्यान दे रही है । देश के किसानों को लेकर सरकार ने बहुत सी योजना लेकर आई है । किसानों को जागरूक किया जा रहा है कि आप किस भूमि पर कौनसी खेती कर सकते है ।

उन्होंने बताया कि आने वाले समय मे देश के अंदर 17 प्रतिशत अभी तक कृषि का योगदान चल रहा है , लेकिन आने वाले समय मे कृषि का योगदान बढेगा । सरकार द्वारा चलाए जा रही योजनाओं से किसानों को मूलभूत सुविधाओं मिलेगी ।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.