नोएडा प्राधिकरण द्वारा घर तोड़े जाने के विरोध में सैकड़ों किसानों ने की महापंचायत , दिखा रोष

ROHIT SHARMA

587

नोएडा :–  नोएडा के सेक्टर 127 में स्थित बख्तावरपुर गांव में अथॉरिटी की ओर से किसानों की दुकानें और घर तोड़े जाने के विरोध मे आज गौतमबुद्ध नगर के किसानों ने महापंचायत की ।

खासबात यह है कि बख्तावरपुर गांव में नोएडा प्राधिकरण की ओर से घरों में तोड़फोड़ करने से नाराज किसान ने घटनास्थल पर ही धरना लगा दिया है। उनके साथ कई किसान संगठन व राजनीतिक दल के लोग भी बैठ गए हैं।

किसानों ने ऐलान किया है जब तक पीड़ित किसान परिवार को राहत नहीं मिलेगी। तब तक धरना जारी रहेगा।

आपको बता दें कि धरना स्थल पर भारी संख्या में किसान संगठन और राजनीतिक दल उपस्थित हुए। वही कुछ दिनों पहले किसानों का प्रतिनिधि मंडल पीड़ित किसान परिवार ओमबीर और चाहत राम के साथ सेक्टर-6 स्थित नोएडा प्राधिकरण कार्यालय पहुंचा था। यहां प्राधिकरण के अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी राकेश कुमार मिश्रा, ओएसडी राजेश कुमार सिंह से मुलाकात की थी।

जिसमे कोई निष्कर्ष न निकलने पर किसानों ने आज महापंचायत बुलाई , जिसमे सैकड़ो की तादात में गौतमबुद्ध नगर के किसान पहुंचे ।

वही महापंचायत के बाद ही किसान आगे की रणनीति बनाएंगे , जिससे किसान परिवार को राहत मिल सके ।

वही इस मामले में किसान का कहना है कि प्राधिकरण की तरफ से गलत कार्यवाही की गई है , जिसकी भरपाई प्राधिकरण करेगा । साथ ही उनका कहना है कि अगर पीड़ित किसान को प्राधिकरण द्वारा राहत नही दी गई तो गौतमबुद्ध नगर का सभी किसान सड़कों पर उतरकर विशाल आंदोलन करेगा ।

दरअसल कुछ दिनों पहले बख्तावरपुर गांव (सेक्टर-127) में 5400 वर्ग मीटर जमीन से अतिक्रमण हटाने गई नोएडा प्राधिकरण की तोड़फोड़ टीम को ग्रामीणों ने घेर लिया था । इस दौरान ग्रामीणों ने जमकर हंमागा किया। हंगामा बढ़ता देख पुलिस को हल्के बल प्रयोग करना पड़ा। कुछ लोगों को पकड़कर पुलिस ने थाने भी भेजा। इसके बाद ग्रामीण शांत हुए। प्राधिकरण की टीम ने कार्रवाई कर करीब 15 दुकानों को ध्वस्त किया। इस मौके पर नोएडा प्राधिरकण के ओएसडी राजेश कुमार, वरिष्ठ परियोजना अभियंता विजय कुमार रावल, तहसीलदार जेपी यादव सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे। अतिक्रमण मुक्त हुई जमीन बाजार कीमत करीब 26 करोड़ रुपये बताई जा रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.