एससी-एसटी एक्ट को लेकर एकजुट हो मुखर हुए नोएडा के ढेरों संगठन, कल मार्च निकाल देंगे ज्ञापन

97

एससी- एसटी एक्ट की चिंगारी अब नोएडा शहर में भी जोर पकड़ती जा रही है । जिसको लेकर शहर के अंदर विरोध प्रदर्शन की तैयारी की जा रही है । जिसको लेकर नोएडा में सर्व समाज के लोगो ने एक प्रेस वार्ता के दौरान केंद्र सरकार के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया।

इस प्रेस वार्ता में शहर के फोनरवा, एनईए, नोएडा लोक मंच, प्रकाश हॉस्पिटल , नोएडा एम्पोलाइस एससोसिसन , राजनीति क्षेत्रो से जुड़े लोगों ने एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ आवाज एक सुर में बुलंद की , साथ ही कल शहर के अंदर केंद्र सरकार के खिलाफ पैदलमार्च के साथ डीएम को ज्ञापन भी सौपने की रणनीति के बारे में बताया ।

इस मौके पर फोनरवा के एनपी सिंह ने कहा कि बड़े शर्म की बात है संसद के अंदर बैठे सासंदो ने इस एक्ट के विरोध में कुछ भी नही बोला । क्या किसी भी सांसद में इतनी हिम्मत नही की इस कानून का विरोध कर सके । जब आप किसी गलत बात का विरोध नही कर सकते हो तो आपको संसद में जाने का अधिकार नही है । साथ ही उनका कहना है कि इस एक्ट को हटाना चाहिए। इस कानून के तहत ये होता है अब बड़ी जाति के निर्दोष लोगो को फसा कर जेल में डाल दिया जाता है। ये कानून को देश से हटाया जाना चाहिए , प्रत्येक आदमी को अपना अधिकार मिलना चाहिए।

वही एनईए के विपिन मल्हान ने कहा कि इस एक्ट के तहत आप किसी भी व्यक्ति को फसा सकते है , अगर वो व्यक्ति अगर निर्दोष भी है तब भी जेल भेजा जा सकता है । सबसे बड़ी बात ये है इस एक्ट में पुलिस जाँच से पहले आपको जेल भेजा जाएगा , उसके बाद जाँच की जाएगी ,अगर कोई भी व्यक्ति पाँच से छह महीने जेल चला गया । उसके बाद वो जांच में निर्दोष होता है । तो भी उसकी जिंदगी खराब हो जाएगी ।

इसी कुछ मसलों को लेकर नोएडा के संगठनों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे । और सरकार से अपील है कि वो इस कानून को वापस ले । अगर सरकार को आरक्षण करना ही है तो एससी एसटी के लेबल पर मत करो , देश की आर्थिक स्तर वाले लोगो पर करो ।

नोएडा के पूर्व पुलिस अधिकारी के के गौतम ने कहा कि इस कानून में दो प्रवधान किये है जिसमे एफआईआर के बाद तुरंत जेल जाना है । कोई एससी एसटी एक्ट के दायरे में आने वाले कोई भी मजदूर अगर कंपनी मालिक पर आरोप लगता है। तो मालिक को जेल जाना पड़ेगा । ये कहा का कानून है । ये सारासार गलत है । क्या केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट से ऊपर हो गयी है।

प्रकाश हॉस्पिटल के संस्थापक वीएस चौहान ने कहा कि बड़ी ताज्जुब की बात है कि राज्य सभा व लोकसभा में एक भी प्रतिनिधि ऐसा नही खड़ा हुआ जो इस एक्ट का विरोध कर सके । ये तो ऐसा वाकिया हो गए जिस तरह महाभारत में द्रौपदी का चीरहरण होता रहा ,और और राज सभा में बैठे सब तमाशा देखते रहे । जिसका नतीजा महाभारत की लड़ाई में हुआ । कही ऐसा ना हो कि इस एक्ट की आग देशभर में महाभारत का रूप ले ले ।

इस दौरान काफी लोगो ने भी इस कानून के खिलाफ अपने विचार प्रकट किए ।

आपको को बता दे कल एससी एसटी एक्ट को लेकर देशभर में काफी विरोध प्रदर्शन हो रहा है । इसी को लेकर कई संगठनों ने प्रस्तावित भारत बंद का ऐलान किया गया है। जिसका प्रभाव नोएडा में भी देखने को मिलेगा ।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.