वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया बीजेपी कार्यकर्ता का नोएडा एसटीएफ ने किया खुलासा , दो आरोपी गिरफ्तार

Rohit Sharma / Talib Khan

71

ग्रेटर नोएडा के बादलपुर इलाके में कुछ दिनों पहले बदमाशों ने हिस्ट्रीशीटर और बीजेपी कार्यकर्ता को मौत के घाट उतार दिया था , जिसको लेकर इस मामले में पुलिस जाँच कर रही थी , वही आज नोएडा एसटीएफ ने इस मामले का खुलासा करते हुए दो आरोपियो को गिरफ्तार कर लिया है । साथ ही इन आरोपियों से अवैध शस्त्र और घटना में प्रयुक्त एक गाड़ी भी बरामद की है ।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

तस्वीरों में आप जिसे देख रहे है वो सुनपुरा निवासी विवेक और ज्ञानेंद्र है , जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिया , जिन्हे मुखबिर की सूचना पर नोएडा एसटीएफ ने थाना दादरी क्षेत्र से गिरफ़्तार किया है ।

वही इस मामले में एसटीफ की नोएडा यूनिट के डीएसपी राजकुमार मिश्रा ने बताया की आरोपियों से पूछताछ से पता चला कि इस जघन्य हत्याकांड की शुरुआत विवेक और धर्मी के बीच गाड़ी को साइड देने में हुए विवाद और मारपीट से हुई ,जिसमें कुख्यात रणदीप भाटी ने धर्मी के ऊपर दबाव बनाने की कोशिश की। जिसे ना मानने पर रणदीप ने इसे अपने वर्चस्व को चुनौती मानते हुए अपने गैंग के सहयोगियों भूपेन्द्र मोमंनाथल, बबली नागर, निवासी सदुल्लाहपुर, निंदर, निवासी तिगाव, फ़रीदाबाद, रोपी जुनपत व अन्य 8-10 सहयोगियों को धर्मी के घर भेजकर धावा बोल दिया और अपहरण करके उसकी हत्या करवा दी।

दरअसल बादलपुर कोतवाली पुलिस का हिस्ट्रीशीटर और भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता धर्मेन्द्र उर्फ़ धर्मी अपने घर पर था दो गाड़ियों में सवार होकर एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों ने 4 जनवरी की रात पहले मृतक धर्मी के घर के बाहर कई राउंड फायरिंग की और उसके बाद धर्मी को उसी के घर से उठाकर ले गए और घर से लगभग एक किलोमीटर की दूरी पर धर्मेंद्र उर्फ़ धर्मी की गोली मारकर हत्या कर दी।

खासबात यह है कि हत्या के बाद बदमाशों ने अपना वर्चस्व दिखाने के खातिर मृतक धर्मेन्द्र को दादरी कोतवाली क्षेत्र के ही रूपबास गांव की सड़क पर फेंक कर फरार हो गए बदमाशों के द्वारा धर्मेंद्र उर्फ़ धर्मी को घर से उठाकर ले जाने के कि शिकायत मृतक धर्मेंद्र के परिजनों ने दादरी कोतवाली पुलिस को दी लेकिन जब तक पुलिस कार्रवाई करती तब तक बदमाशो ने उसे गोली मारकर फरार हो गए थे। पुलिस ने मृतक के परिजनों की शिकायत पर 5 लोगों को नाम दर्ज करते हुए 10 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कराया था।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.