एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट के पी जी डी एम् प्रोग्राम के 2017-19 बैच के लिए ओरिएंटेशन प्रोग्राम का आयोजन.

61

नॉलेज पार्क 3 स्थित एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एन्ड टेक्नोलॉजी के पी जी डी एम् प्रोग्राम के 2017 – 2019 बैच के लिए ओरिएंटेशन प्रोग्राम का आयोजन हुआ । एक हफ्ते तक चलने वाले प्रोग्राम में देश के विभिन्न संस्थानों से गेस्ट वक्ताओं को आमंत्रित किया गया है । 31 जुलाई 2017  को कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ । दस से भी ज्यादा वर्षों से एक्यूरेट का पी जी डी एम् प्रोग्राम छात्रों के मध्य मैनेजमेंट के विकल्प के रूप में विधमान है ।

कार्यक्रम में आई आई एम् लखनऊ एवं कॉज़िकोडे के पूर्व डायरेक्टर रहे डॉ. देबाशीष चट्टर्जी ने मुख्या अतिथि की भूमिका निभाई । इसके अलावा कार्यक्रम में कार्यक्रम में डॉ. जे एल रैना, डॉ. राज अग्रवाल, डॉ. बिनोद कुमार एवं मोटिवेशनल स्पीकर श्री संदीप वढेरा भाग लेंगे । पूरे हफ्ते चलने वाले कार्यक्रम में १५ से ज्यादा वक्ताओं को छात्रों का मार्गदर्शन करने के लिए आमंत्रित किया गया है । कार्यक्रम में श्री राजेश त्रिपाठी को गेस्ट ऑफ़ हॉनर के लिए आमंत्रित किया गया था । कार्यक्रम में संसथान के डायरेक्टर डॉ. तुषार कांति ने ए छात्रों का अभिवादन किया और उन्हें साहसके साथ जीवन में नए आयाम स्थापित करने की प्रेरणा दी । कार्यक्रम में संस्थान के डायरेक्टर डॉ. तुषार कांति ने ए छात्रों का अभिवादन किया और उन्हें साहसके साथ जीवन में नए आयाम स्थापित करने की प्रेरणा दी ।

डॉ. देबाशीष चट्टर्जी ने छात्रों को उधोग जगत से जुड़े रहने के फायदे बताये और उन्हें प्रबंधन क्षेत्र में मौजूद अनेक संभावनाओं के बारे में बारे में बताया । श्री राजेश त्रिपाठी ने छात्रों को नित नए प्रयोग करने पर बल दिया उनके अनुसार प्रयोग करने से ही नयी जानकारी मिलती है और उससे जुड़े फायदों का पता चलता है । छात्रों ने आईआईएम प्रोफेसर से तरह तरह के प्रश्न पूछे और उनसे हर तरह का ज्ञान अर्जित करने का प्रयास किया ।

संस्थान के कार्यकारी निदेशक डॉ. राजीव भारद्वाज ने छात्रों को प्रोत्साहित करते हुए उन्हें निरंतर लग्नरत रहने एवं उन्नति के लिए भरसक प्रयास करने की प्रेरणा दी । संस्थान की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने नवीन छात्रों से वार्तालाप किया और उन्हें पी जी डी एम् कोर्स का चयन करने पर आभार प्रकट किया । उन्होंने छात्रों को विश्वास दिलाया की गत वर्षों की तरह वे भी संस्थान से शिक्षा प्राप्त कर उच्च पदों पर आसीन होंगे  ।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.