राम जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन में अपने प्राणों की आहुति देने वाले बलिदानियों का बनेगा दिल्ली में स्मारक

126

Lokesh Goswami New Delhi : 

राम जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन में विगत 500 वर्षों में अपने प्राणों की आहुति देने वाले 5 लाख बलिदानियों की स्मृति में नई दिल्ली में भव्य बलिदानी स्मारक का निर्माण का शुभारंभ 6 दिसंबर से शुरू किया जा रहा है | आपको बता दे की स्मारक का भूमि पूजन हिंदू महासभा भवन परिषद नई दिल्ली में 13 फरवरी 2016 को साधु संतों के पावन संध्या एवं मार्गदर्शन में किया गया था |

यूनाइटेड हिंदू संगठन की ओर से देश के कलंक बाबरी ढांचे के विध्वंस की पच्चीसवीं वर्षगांठ पर 6 दिसंबर को इस बलिदानी स्मारक के निर्माण का कार्य विधिवत रूप से साधु संतों के द्वारा शुरू किया जा रहा है | स्मारक पर ज्योति 24 घंटे प्रज्वलित रहेगी और 24 घंटे ही राम का अखंड जाप होता रहेगा इसके लिए अयोध्या से विशेष रूप से राम ज्योति दिल्ली लाई जाएगी | साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नारायण गिरी ने बताया कि राम जन्मभूमि मुक्त के लिए सन 1928 से लेकर अब तक के क्षेत्र एवम् आंदोलन में 500082 अपने प्राण योछावर कर चुके हैं | इन महान बलिदानों को देश भुला चुका है लेकिन यूनाइटेड फ्रंट ने सर्वप्रथम इनकी याद में स्मारक बनाने का निर्णय लिया है | वही एक वर्ष के लिए जन जागरण अभियान चलाया जा रहा था | जिसके अंतर्गत राजधानी एवं शिविर लगाकर जनसाधारण को इस अभियान के साथ जोड़ा जा रहा है | बाबरी ढांचे के घाट पर 6 दिसंबर से स्मारक के निर्माण का कार्य शुरु हो जाएगा |

शुभारंभ में अनेक साधु , महात्मा , धार्मिक , नेता , शंकराचार्य , मठाधीश पर राजनीतिक नेता सम्मिलित होंगे | समारोह में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति सहित अनेक केंद्रीय मंत्री एवं हिंदूवादी नेताओं को आमंत्रित किया गया है | सभी सांसदों लोकसभा में विपक्षी नेताओं सभी प्रदेशों के राज्यपालों मुख्यमंत्रियों के अतिरिक्त बाबरी विध्वंस के सभी आरोपियों को पत्र लिखकर इस समारोह में सम्मिलित होने का अनुरोध किया है | क्योंकि हमारा मानना है कि पिछले 500 वर्षों से विभिन्न आंदोलनों में अपने प्राणों की आहुति देने वाले 500000 लोगों के सभी देशवासियों के पूर्वज थे और उनकी स्मृति में बनाए जा रहे हैं सभी को शामिल होना चाहिए |

You might also like More from author