ब.स.पा. प्रत्याशी धीरज टोकस ने पदयात्राओं का सिलसिला जारी रखा ।

0 1,350

 ब.स.पा. प्रत्याशी धीरज टोकस ने पदयात्राओं का सिलसिला जारी रखा । ब.स.पा. प्रत्याशी धीरज टोकस ने पदयात्राओं का सिलसिला जारी रखा ।
ब.स.पा. प्रत्याशी धीरज टोकस ने पदयात्राओं का सिलसिला जारी रखा ।

आर.के.पुरम विधानसभा से ब.स.पा. प्रत्याशी श्री धीरज टोकस ने क्षेत्र ने मुनिरका गाँव, अम्बेडकर बस्ती, कनक दुर्गा कैम्प, सैक्टर-7, 8, 9 व 10 में पदयात्रा के माध्यम से घर-घर जाकर वोट की अपील की । क्षेत्रवासियों ने कहा कि धीरज टोकस स्थानीय निवासी है व सदैव क्षेत्रवासियों कि मदद करता है इसलिए धीरज टोकस जैसे ईमानदार, स्वच्छ छवि व विकास पुरूष को अपना मत देना चाहिए । क्षेत्रवासियों ने जगह-जगह धीरज टोकस का फूलमालायें पहनाकर स्वागत भी किया । उनके साथ सैंकड़ों की संख्या में बुजूर्ग, नौजवान व महिलायें भी पदयात्रा में शामिल थे ।

श्री धीरज टोकस ने क्षेत्रवासियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राजनीति उनका पेशा नहीं है राजनीति तो वो सिर्फ इसलिये कर रहे है कि गरीब, मध्यम, पिछड़े, शोषित व जरूरतमंद व्यक्ति को उसका अधिकार मिले । उन्होंने कहा कि काँग्रेस व भाजपा दोनेा दलों ने देश व प्रदेश को लूटा है और अब आप पार्टी भी इसी काम में लगी हुई है। इसलिये क्षेत्र की जनता को इन तीनों दलों से छुटकारा चाहिये व क्षेत्र में विकास की गंगा बहे इसलिये क्षेत्रवासियों को मेरे चुनाव चिन्ह हाथी का बटन दबाकर और मेरे पक्ष में वोट डालकर क्षेत्र को विकास के रास्ते पर ले जाना चाहिए । श्री धीरज टोकस ने क्षेत्रवासियों का अभूतपूर्व समर्थन व आर्शीवाद के लिये दिल की गहराईयों से आभार भी प्रकट किया ।

श्री धीरज टोकस ने जगह-जगह नुक्कड़ सभाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि इस बार क्षेत्रवासियों के लिये सुनहरा मौका है कि वो स्थानीय प्रतिनिधि को चुने और जो लोग बाहर से आकर आर. के. पुरम में राजनीति करते है उन्हें कड़ा सबक सिखाये । श्री धीरज टोकस ने क्षेत्रवासियों को यह आश्वासन भी दिया कि चुनाव जीतने के बाद सरकारी फण्ड का इन्तजार नहीं करेगें बल्कि अपनी निजी फण्ड से क्षेत्र में रूके हुए विकास कार्यों को शुरू कर देगें । उन्होंने क्षेत्रवासियों से यह भी अपील की कि वह 4 दिसम्बर को अपने सभी पड़ोसियांे, मित्रों व रिश्तेदारों के साथ जाकर अपने मत का प्रयोग अवश्य करें ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.