भाजपा प्रत्याशी ने डीएम को लिखा पत्र – संवेदनशील बूथों पर प्रशासन को कड़ी नजर रखने की गुजारिश

105

ग्रेटर नोएडा। इस बार लोकसभा चुनाव भाजपा कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहती है। बीते लोकसभा चुनाव में हुई हार से सबक लेते हुए भाजपा प्रत्याशी डाॅक्टर महेश शर्मा ने जनपद में स्थित संवेदनशील बूथों पर जिला प्रशासन को कड़ी निगाह रखने की अपील की है। उन्होंने इन बूथों पर कैप्चरिंग और फर्जी वोटिंग की आशंका जताते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी को एक पत्र लिखा है। वर्ष 2009 में हुए लोकसभा चुनाव भाजपा प्रत्याशी डाॅक्टर महेश शर्मा बसपा प्रत्याशी सुरेन्द्र नागर से करीब बीस हजार वोटों के अंतर से हार गए थे। उस दौरान हुई वोटिंग और मतगणना पर भी भाजपा ने प्रश्नचिन्ह खड़ा किया था। यही नहीं, नोएडा विधानसभा क्षेत्र में स्थित आधा दर्जन संवेदनशील और अति संवेदनशील बूथों पर भाजपा प्रत्याशी को एक भी वोट नहीं मिले थे। जिससे भाजपा ने बूथ कैप्चरिंग की आशंका व्यक्त की थी। एक बार फिर भाजपा ने डाॅक्टर महेश शर्मा को प्रत्याशी बनाया है और उनका मुख्य मुकाबला भी बसपा और सपा प्रत्याशियों के साथ है। भाजपा ने आशंका जताई है कि इस बार भी पिछली बार की तरह ही बूथ कैप्चरिंग और वोटिंग के दौरान मारपीट हो सकती है। महेश शर्मा ने जिला निर्वाचन अधिकारी ए.वी. राजामौली को लिखे पत्र में कहा है कि पिछले चुनाव में दादरी में 65, जेवर में 28 और नोएडा में 4 बूथों को संवेदनशील घोषित किया गया था। जबकि नोएडा में बहलोलपुर, छिजारसी, पर्थला खंजरपुर और सर्राफाबाद को अति संवेदनशील घोषित किया गया था। इन अति संवेदनशील बूथों पर ही उन्हें एक भी वोट नहीं मिले थे। उन्होंने आशंका जताई है कि वोटर को डरा धमका कर ऐसा किया गया था। पिछले चुनाव में इन बूथों पर मारपीट और हंगामा भी हुआ था। जिसके चलते कई घंटे वोटिंग भी बाधित हुई थी। भाजपा प्रत्याशी ने जिलाधिकारी से इस बार मतदान के दौरान किसी तरह की गड़बड़ी न होने की गुहार लगाई है।

Comments are closed.