महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से निसर्ग तूफान ,120 KM की रफ्तार से मुम्बई में एंट्री, एयरपोर्ट-सी लिंक बंद

Rohit Sharma

0 318

नई दिल्ली :– चक्रवाती तूफान निसर्ग महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से टकरा गया है. निसर्ग तूफान मुंबई में अलीबाग के तट से टकराया है. मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान करीब 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से टकराया है।

मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है। आपको बता दें कि मुंबई एयरपोर्ट पर शाम 7 बजे तक कामकाज को बंद किया गया है और बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर ट्रैफिक की आवाजाही रोक दी गई है. मुंबई और गुजरात के ज्यादातर इलाकों में रेड अलर्ट जारी है ।

दरअसल , तूफान निसर्ग अलीबाग के तट से टकराया है. अलीबाग में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है. मौसम विभाग के मुताबिक लैंडफॉल को पूरा होने में करीब 3 घंटे लगेंगे।

तेज हवाओं और बारिश के साथ कई जगहों पर पेड़ टूटकर गिर गए हैं. तेज हवा और बारिश के बीच लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी जा रही है. वहीं, तटीय इलाकों में जाने से रोका गया है।

तूफान के मद्देनजर बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर ट्रैफिक की आवाजाही रोक दी गई है. महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की 21 टीमें तैनात की गई हैं. मुंबई, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है. ऐसे में लोगों को घरों से बाहर ना निकलने की सलाह दी गई है ।

महाराष्ट्र के रत्नागिरी इलाके में समंदर में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं. चक्रवात निसर्ग का असर से उठ रही लहरें इतनी ऊंची हैं कि समंदर किनारे बंधे जहाज हिल रहे हैं. बता दें कि तूफान के टकराने से पहले मौसम विभाग ने मुंबई में हाई टाइड के आने की आशंका जताई।

मौसम विभाग के मुताबिक आज रात 9:48 बजे मुंबई में हाई टाइड की चेतावनी दी गई है. मौसम विभाग ने कहा कि निसर्ग तूफान के दौरान 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की तूफानी हवाएं और समंदर में उठने वाली 6 फीट ऊंची लहरें मुंबई को फिर से पानी-पानी कर सकती हैं।

चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 20 टीमें तैनात की गई हैं. इसमें मुंबई में 8 टीमें, रायगढ़ में 5 टीमें, पालघर में 2 टीमें, थाने में 2 टीमें, रत्नागिरी में 2 टीमें और सिंधूदुर्ग में 1 टीम की तैनाती है. वहीं, कुछ टीमों को स्टैंडबाई पर रखा गया है. बता दें कि दो हफ्ते में देश को दूसरे समुद्री तूफान का सामना करना पड़ रहा है. पहले अम्फान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाई थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.