32 वें स्थापना दिवस के लिए बिमटेक में सभी तैयारियां हुई पूरी, 29 सितंबर से होंगे कला , सांस्कृतिक और सामाजिक कार्यक्रम

Abhishek Sharma

0 241

Greater Noida (25/09/2019) : बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी (बिमटेक) हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी अपना स्थापना दिवस बड़े धूमधाम के साथ मनाने जा रहा है। इस वर्ष स्थापना दिवस का कार्यक्रम 29 सितंबर से 3 अक्टूबर तक आयोजित किया जाएगा जिसमें विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन हर वर्ष की भांति किया जाना है।

खास बात यह है कि यह संस्थान डायरेक्टर एच चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में भारतीय संस्कृति की विरासत से मिले मूल्यों और कलाओंका प्रदर्शन करने में कोई कसर नहीं छोड़ता है। कला , सांस्कृतिक और सामाजिक कार्यक्रम के द्वारा हम भारत के दशकों पुराने इतिहास से जुड़े रहते है। परिसर का हर भाग विविधता और दशकों पुरानी विरासत को संरक्षित करने के मकसद से गूँजता है।



इस साल बिमटेक अपने 32 वां फाउंडेशन डे को 29 सितंबर से 3 अक्टूबर 2019 के दौरान बहुत उत्साह के साथ मनाने जा रहा है। यह महात्मा गांधी की 150वीं जयंती भी है जिनकी विचारधारा को बिमटेक हमेशा आत्मसात करता हैं।

32 वां फाउंडेशन डे आयोजन के मुख्य अतिथि हरिवंश, राजयसभा के डिप्टी उपाध्यक्ष होंगे। 1956 में जन्मे सिंह यूपी के सीताब दियारा गाँव से हैं। हरिवंश जद (यू) के पहली बार राज्यसभा सांसद हैं। 2 अक्टूबर को ‘गांधी ही विकल्प, विषय पर व्याख्यान देंगे।

इस वर्ष नाट्य मंचन का आयोजन 29 सितंबर, 2019 को ‘ गुड़म्बा ‘ से शुरू होगा, जो की एस्से पीपीएल मुंबई द्वारा परफॉर्म किया जायेगा । गुदाम्बा’ दिल को छू लेने वाला नाटक है । जो की जावेद सिद्दीकी द्वारा लिखा गया है । कहानी एक महत्वाकांक्षी युवा लड़की अमीना (जिसका किरदार प्रसिद्ध फिल्म, थिएटर एवं टीवी कलाकार लुबना सलीम निभाएंगी) के इर्द-गिर्द घूमती है। अपने पुराने विचार के ससुराल वालो के साथ संयुक्त परिवार में बहू के रूप में रहते हुए, अमीना हास्य व्यंग्य और आत्म-हीनता के साथ अपना रास्ता बनाती है।

30 सितम्बर को अस्मिता थिएटर ग्रुप, दिल्ली द्वारा डारियो फ़ॉ के नाटक का रूपांतरण “चुकाएंगे नहीं” का मंचन किया जायेगा जो मिडिल क्लास कामकाजी वर्ग पर केंद्रित है । और यह अपनी तरह का पहला कॉमेडी है , क्योंकि यह अर्थव्यवस्था की समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करता है और घरेलू महिलाओ की रोजमर्रा की समसयाओ को दर्शाता है । स्थानीय सुपरमार्केट में बढ़ती कीमतों के खिलाफ गृहिणियों द्वारा एक सहज प्रदर्शन पर यह नाटक आधारित है ।

1st अक्टूबर को ‘ एक मामूली आदमी ‘ का आयोजन होगा । यह हिंदी नाटक अकीरा कुरोसावा की फिल्म ‘आईकीरू’ से प्रेरित है। “एक मामूलि आदमी ” शहर के मिडिल क्लास फैमिली की दासता वयान करता है जो वास्तविक खुशी से परे रह जाते हैं। यह नाटक एक मध्यम आयु वर्ग के क्लर्क का गहरा वर्णन है। जो खुद की तस्वीर बनाने की कोशिश करता है । यह उसके लिए एक चुनौती है। मृत्यु उस के लिए प्रेरणा बन जाती है; वह दूसरों को खुश करना चाहता है। ‘चुकाएंगे नहीं ‘ एवम ‘ एक मामूली आदमी ‘ अस्मिता थिएटर ग्रुप द्वारा परफॉर्म किये जाएंगे ।

3 अक्टूबर 2019 को कार्यक्रम का समापन रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित  “वॉटर मैन ऑफ इंडिया” के नाम से प्रसिद्ध राजिंदर सिंह के सम्बोधन से होगा । पानी की बढ़ती समस्या के बारे में विद्यार्थियों के अहम् योगदान के लिए वह अपनी परिचर्चा “जल ही जीवन है” से आहवाहन करेंगे ।

32 वां फाउंडेशन डे के कार्यक्रम में कई नामी सरकारी एवं कॉर्पोरेट से हस्तियाँ, ग्रेटर नॉएडा की आम जनता तथा भूतपूर्व छात्र भी शामिल रहेंगे । इस उपलक्ष्य में कई नामी साहित्यकार, कलाकार एवं BIMTECH में एक दशक का कार्यकाल पूर्ण करने वाले कर्मचारियों का अभिनन्दन भी किया जायेगा । किसी उभरते नाट्यकर्मी को थिएटर फॉर सोशल चेंज के लिए दिए जाने वाले वार्षिक सरला देवी बिरला पुरस्कार की भी घोषणा की जाएगी ।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.