नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के निर्माण में तेजी लाने के लिए सीएम ने बुलाई बैठक

Abhishek Sharma

0 233

Greater Noida (13/11/18) : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के सन्दर्भ में एक अहम बैठक बुलाई है जिसमे मुख्य सचिव, नोएडा-ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण के सीईओ और प्रदेश के कई अधिकारी शामिल होंगे। इस दौरान बैठक में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की जमीन अधिग्रहण की स्थिति और कंपनी के साथ होने वाले कन्सेशन एग्रीमेंट की समीक्षा भी की जाएगी।

यमुना अथॉरिटी के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि जमीन अधिग्रहण करने के लिए तेजी से काम चल रहा है। शासन ने अधिसूचना जारी कर किसानों से किसी भी प्रकार की आपत्ति के लिए 2 महीने का समय दिया है। जिसके बाद किसानो को मुआवजा देने व कब्जे की कार्रवाई करने में करीब एक माह का समय और लगेगा। हालांकि प्राधिकरण इसके साथ साथ ही और काम समय में निपटाने की कोशिश में लगा हुआ है। जिससे की जल्द से जल्द किसानों को मुआवजा मिल सके और प्राधिकरण जमीन पर निर्माण कार्य के लिए कब्ज़ा ले सके। इस काम को जल्द से जल्द करने के लिए जिलाधिकारी व अन्य संबंधित अधिकारी भूमि अधिग्रहण का कानून का अध्यन कर उपाय की खोज में लगे हुए हैं। सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह नोएड इंटरनेशनल एयरपोर्ट के कंसेशन एग्रीमेंट को मुख्यमंत्री के समक्ष पेश करेंगे।

इसके साथ ही नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की कनेक्टिविटी के लिए मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट पर सुझाव देने वाली कंपनी की चयन प्रक्रिया अब आगामी बृहस्पतिवार से आगे बढ़ेगी।

तकनीकी बिड में सफल रही राइट्स कंपनी के प्रतिनिधियों के फाइनेंशियल बिड में न पहुंच पाने के कारण इसे बृहस्पतिवार तक के लिए स्थगित कर दिया है। राइट्स को बृहस्पतिवार को प्रस्तुतीकरण देने का मौका मिलेगा, इसके बाद बिड खोली जाएगी।

कंपनियों ने मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी के लिए सड़क, मेट्रो एवं रैपिड ट्रेन को लेकर खास ध्यान केंद्रित किया है। सराय काले खां से नोएडा एयरपोर्ट को जोड़ने के बजाय प्रस्तावित पलवल-खुर्जा रेल लाइन से कनेक्टिविटी का विकल्प भी रखा गया। इसके अलावा सड़क के माध्यम से नोएडा एयरपोर्ट को कनेक्टिविटी पर अपने प्रारंभिक विकल्प दिए। हालांकि मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट पर रिपोर्ट देने के लिए कंपनियां दिल्ली व एनसीआर में ट्रैफिक को लेकर दोबारा स्टडी कराएंगी। प्राइमरी एवं सेकेंडरी डाटा के आधार पर ट्रांसपोर्ट को लेकर अपनी रिपोर्ट देंगी। कंपनियों को रिपोर्ट तैयार करने के लिए 45 दिनों का समय मिलेगा।

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से सीधे जोड़ने के साथ-साथ दिल्ली के अन्य आंतरिक हिस्सों खासकर उन हिस्सों से जो गौतमबुद्ध नगर से नजदीक हैं। वहां से अच्छी कनेक्टिविटी देने की योजना है, ताकि यात्री जेवर एयरपोर्ट को प्राथमिकता दें। इसके साथ ही एनसीआर व पश्चिम उत्तर प्रदेश के जिलों से सीधे एयरपोर्ट तक कम समय में यात्रियों के पहुंचने के लिए सड़क का जाल तैयार किया जाएगा। मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट की फाइनेंशियल बिड में राइट्स के प्रतिनिधियों के न पहुंचने के कारण इसे बृहस्पतिवार तक के लिए आगे बढ़ा दिया गया है। दो कंपनियों ने प्रस्तुतीकरण दिया है। तीनों का प्रस्तुतीकरण देखने के बाद बिड खोली जाएगी।
[1:17 PM, 11/13/2018] +91 88260 05343: नोएडा सेक्टर 33 इस्थित एआरटीओ कार्यालय में दलालो की बढ़ती सक्रियता को देखते हुवे परिवहन विभाग ने अब लोगों को ठगी से बचने के एक नया तरीका अपनाने जा रहा है। विभाग के अनुसार कार्यालय में बोर्ड लगाया जाएगा, जिस पर दलालो के फ़ोटो लगे होंगे। फ़ोटो को देख लोग सतर्क हो जाएंगे और ठगी का शिकार होने वाले कई लोगों बने विभाग से शिकायत की थीं। दरअसल बीते दिनों एक दलाल ने सेक्टर 16 निवासी एक व्यक्ति से रोड टैक्स जमा कराने के नाम पर 70 हजार की ठगी कर ली थी। इसके बाद विभाग ने दलालों के खिलाफ कार्यवाही तेज कर दी थी। वहीं सोमबार को त्योहार की छुट्टी के बाद जब एआरटीओ कार्यालय खुला तो दलाल सक्रिय दिखे और लाइसेंस बनाने के नाम पर एक व्यक्ति से 3500 रुपये की मांग कर दी। हालांकि जब लोगो को उस दलाल के बारे में पता चला तो वह फरार हो गया। एआरटीओ प्रशासन एके पांडेय ने बताया कि जो भी व्यक्ति किसी कार्य के लिए एआरटीओ कार्यालय पहुचता है तो उसे विभाग की तरफ से सतर्क कर दिया जाता हैं। उधर ऑनलाइन प्रकिर्या को लेकर लोगो उतने जागरूक नहीं है।इसका दलाल फायदा उठा लेते हैं।जल्दी ही विभाग की तरफ से लोगों को ऑनलाइन के प्रति जागरूक किया जाएगा।इसको लेकर कार्यालय के परिसर में सतर्कता अभियान भी चलाया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.