श्रीराम लखन धार्मिक लीला कमेटी के द्वारा रामलीला मंचन में दिखाए अदभुत दृश्य

Rohit Sharma (Photo/Video) By Lokesh Goswami Ten News

154

श्रीराम लखन धार्मिक लीला कमेटी के तत्वावधान में आयोजित रामलीला मंचन के चौथे दिन उत्तर प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम एवं नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ आर के मिश्रा ने आयोजन समिति के पदाधिकारियों के साथ दीप प्रज्वलित कर लीला मंचन का शुभारंभ किया।

लीला संचालक कृष्णा स्वामी के मार्गदर्शन में श्रीपरिवार रघुवंश सांस्कृतिक मंच के कलाकारों ने अपनी उत्कृष्ट अभिनय क्षमता से दर्शकों का मन मोह लिया।

वही दूसरी तरफ इस मंचन में महाराजा जनक शतानंद को बुलाकर मुनि विश्वामित्र को आमंत्रण भेजते हैं ।मुनि विश्वामित्र राम लक्ष्मण के साथ धनुष यज्ञशाला देखने पहुँचते हैं जहाँ पर सीता का स्वयंबर होना है ।सबसे सुंदर मंच पर राम लक्ष्मण को मुनि समेत जनक बैठाते हैं । सीता जी को जनक बुलाते हैं और बंदीजन जनक की प्रतिज्ञा को बताते हैं कि जो भी यज्ञशाला में रखे धनुष को तोड़ेगा उसी के साथसीता का विवाह होगा ।

वही दूसरी तरक रावण ,बाणासुर जैसे तमाम योद्धा आये लेकिन धनुष को हिला तक नहीं सके । यह देखकर जनक व्याकुल हो उठते हैं । इसके बाद जनक धनुष न टूटने पर विलाप कर कहते हैं कि लगता हैं अब पृथ्वी वीरों से खाली हो गई हैं। जिसको लेकर लक्ष्मण उनकी बात सुनकर क्रोध कर कहते हैं कि अगर भईया राम आज्ञा दे यह धनुष क्या पूरा ब्रह्माण्ड को तोड़-मरोड़ डालू।

जिसको देख राम ने लक्ष्मण को शांत करते हैं। इसके बाद विश्वामित्र भगवान राम को आदेश देते हैं‘‘ उठहु राम भंजहु भव चापा। मेटहु तात जनक परितापा’’। भगवान राम धुनष की प्रत्युन्चा चढ़ाते हैं किधनुष टूट जाता हैं सभी जनकपुरवासियों में खुशी दौड़ जाती हैं सीता राम को वरमाला डालती हैं।

वही राम और सीता के वरमाला कार्यक्रम में सुर नर मुनि व् देवता फूलों की वर्षा करते हैं । साथ इस मंचन दृश्य में शिव धनुष के टूटने की बात सुनकर परशुराम आते हैं और जनक को कहते हैं की दुष्ट धनुष किसने तोड़ा है इसके बाद लक्ष्मण व परशुराम का संवाद होता हैं।

जिसके बाद में परशुराम को ज्ञात हो जाता हैं कि राम और कोई नहीं साक्षात विष्णु का अवतार हैं और वह क्षमा मांगते हुए कहते हैं‘‘ अनुचित बहुत कहेहु अज्ञाता। छमहु छमा मन्दिर दोउ भ्राता’’।

क्षमा के बाद परशुराम महेंद्र पर्वत पर लौट जाते हैं। इसी के साथ चौथे दिन की लीला मंचन का समापन होता है। श्रीराम लखन धार्मिक लीला कमेटी के महासचिव एवं मीडिया प्रभारी राघवेंद्र दुबे ने बताया कि 14 सितंबर को सायं 4 बजे से सेक्टर 46 स्थित वोडा महादेव मंदिर से राम बारात एवं शोभा यात्रा निकाली जाएगी। शोभा यात्रा बैंड बाजे एवं बग्घियों के साथ निकाली जाएगी ।

राम बारात में हिन्दू , मुस्लिम, सिख,इशाई सभी धर्मों के लोग सम्मलित होकर सामाजिक सौहार्द की मिसाल पेश करेंगे। राम बारात वोडा महादेव मंदिर से सेक्टर 46 मार्किट होती हुई रामलीला मैदान पहुंचेगी।

तदोपरांत जनक द्वारा राम बारात स्वागत, राम जानकी विवाह, जानकी विदाई आदि प्रसंगों का मंचन किया जाएगा। इस अवसर पर वाईस चेयरमैन राजेंद्र जैन, संयोजक पूनम सिंह, अध्यक्ष विपिन अग्रवाल, स्वागत अध्यक्ष रामवीर यादव, मुख्य संरक्षक आलोक गुप्ता, संजय गोयल, डॉक्टर रविन्द्र, कमर खान, अशोक गोयल,सुरेश गुप्ता, टीसी गौड़,अर्जुन प्रजापति, बबलू चौहान, नरेश कुच्छल, महेश चंद अग्रवाल,रमा सिंह, अमर शर्मा,अनिल श्रीवास्तव,आर के सक्सेना, बलराज गोयल सहित कई पदाधिकारी व शहर के गणमान्य लोग मौजूद रहे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.