दिवाली पर सोना 55 हजार तक पहुँचने की उम्मीद, कारोबारियों को अच्छे व्यापार की आशा

0 78

लॉक डाउन की अवधि के बाद अब बाजार खुले हैं और बाजार में बेहद मंदी भी है लेकिन इस बीच आज देश में सोने का भाव रुपये 51500 प्रति 10 ग्राम रहा जबकि चांदी का भाव आज रुपये 62 हजार प्रति किलो रहा ! बाज़ारों में यह उम्मीद की जा रही है की 3 अगस्त से रक्षाबंधन से शुरू हो रहे त्योहारी सीजन में सोने-चांदी की बिक्री अच्छी होगी|

कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल एवं आल इंडिया ज्वेलर्स एंड गोल्डस्मिथ फेडरेशन के राष्ट्रीय संयोजक श्री पंकज अरोरा ने कहा की इस तेजी को देखते हुए उम्मीद है की दिवाली पर सोने का भाव 55 हजार प्रति 10 ग्राम पहुँचने की आशा है ! श्री अरोरा ने बताया की 22 मार्च के लॉकडाउन के पहले दोनो कीमती वस्तुओं के भाव लगभग सोना ₹41000/-प्रति 10 ग्राम और चांदी ₹40000/- किलोग्राम थे और आज लॉकडाउन के 4 महीने बाद सोने में 28-30% और चांदी में 40-45% की बढ़ोतरी आई है! उन्होंने यह भी बताया की दिवाली तक चांदी का भाव 72 हजार से लेकर 75 हजार प्रति किलोग्राम तक पहुँचने की आशा है ! श्री अरोरा ने यह भी कहा की सोना सदा से ही ग्राहकों के लिए निवेश का सबसे बेहतर और सुरक्षित पसंद रहा हैं क्योंकि आम तौर पर सोने के दामों में सदा वृद्धि बनी रहती है तथा वहीँ दूसरी ओर व्यापारियों के लिए भी निवेश की दृष्टि से यह सबसे सुरक्षित जरिया है और देश में अनेक व्यापारी सोने में निवेश करते आये हैं|

श्री खंडेलवाल एवं श्री अरोरा ने यह भी कहा की देश का सोने के व्यापार में 15 जनवरी, 2021 से प्रत्येक सोने की वस्तु पर हालमार्क अनिवार्य कर दिया है ! पुराने स्टॉक को ख़त्म करने के लिए सरकार ने एक वर्ष का समय दिया था लेकिन इस वर्ष कोविद के कारण व्यापारिक गतिविधियां पूरे देश में लगभग ठप्प रही हैं और सोने का व्यापार करने वाले व्यापारियों के पास से पुराना स्टॉक ख़त्म ही नहीं हो पाया ! देश भर में लगभग 3 लाख जेवलर्स हैं और यदि प्रत्येक जेवेलर के पास लगभग 1 किलो पुराने सोने का स्टॉक भी गिना जाए तो वर्तमान में देश भर में लगभग 300 टन पुराना सोना पड़ा है और जब तक सोने का यह स्टॉक ख़त्म नहीं हो जाता तब तक हॉलमार्क का अनिवार्य होना मुश्किल है ! उन्होंने कहा की सरकार से इस तारीख को दो वर्ष तक आगे बढ़ाने की मांग को लेकर व्यापारियों का एक प्रतिनिधिमंडल कैट के नेतृत्व में शीघ्र केंद्रीय वाणिज्य मंत्री श्री पियूष गोयल तथा उपभोक्ता मामलों के मंत्री श्री रामविलास पासवान से मिलेगा और पुराने स्टॉक को ख़त्म करने के लिए दो वर्ष की अवधि का और समय मांगेगा क्योंकि व्यापार के वर्तमान हालत को देखते हुए देश में सोने का जो स्टॉक है उसको ख़त्म करने में दो वर्ष का समय लगेगा और हॉलमार्क अनिवार्य की व्यवस्था उस अवधि के बाद सोने के सामान पर लगने से देश भर के जेवेलर्स को बड़ी सुविधा हो जायेगी|

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.