ग्रेटर नोएडा : किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर डीएम कार्यालय पर भाकियू का अनिश्चितकालीन धरना 

ABHISHEK SHARMA

0 129

ग्रेटर नोएडा : गन्ने के समर्थन मूल्य में वृद्धि करने, गन्ना का बकाया भुगतान करने, धान क्रय केंद्रों संचालन की व्यवस्था दुरुस्त करने, बिजली बिल की समस्या समेत कई मांगों को लेकर भारतीय किसान यूनियन के सैकड़ों कार्यकर्ता सोमवार को सूरजपुर स्थित जिलाधिकारी कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए हैं।

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश प्रवक्ता व मंडल अध्यक्ष पवन खटाना ने बताया कि बिजली कटौती समेत किसानों की समस्याओं को लेकर हर जिले में धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। मांगें पूरी होने तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि किसानों का गन्ना का भुगतान अभी बकाया है जबकि पेराई का नया सत्र शुरु होने वाला है। इसके साथ किसानों की धान खरीद नही हो रही है। किसानों को बेवजह परेशान किया जा रहा है जबकि बिचौलियों का धान मिलीभगत करके खरीदा जा रहा है। इन सभी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। जब तक सभी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता धरनारत रहेंगे।

आपको बता दें कि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय नेतृत्व द्वारा दिए गए निर्देश के तहत उत्तर प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर गन्नों के बकाया भुगतान की मांग को लेकर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं।

धरने में पहुंचे लोगों को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश प्रवक्ता एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष पवन खटाना ने कहा कि प्रदेश सरकार ने करोड़ों रुपए के गन्ना बकाया भुगतान अटका कर रखा है। जिससे किसानों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। उन्होंने कहा कि कई बार इस मुद्दे को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भारतीय किसान यूनियन का प्रतिनिधिमंडल मिल चुका है, लेकिन आश्वासन के अलावा कोई उचित कार्रवाई नहीं हो पाई है।

इस अवसर पर भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष अनित कसाना ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय किसान यूनियन किसानों की लड़ाई को हमेशा से लड़ती रही है और इसी कड़ी में आज विभिन्न मांगों को लेकर किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आंदोलन करने के लिए पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के गन्ने का भुगतान किया जाए, बिजली बिल में हो रही धांधली बंद की जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.