जेपी समूह पहले 100 करोड़ जमा करे फिर होगी अगली सुनवाई : हाईकोर्ट

ABHISHEK SHARMA

0 146

 

यमुना प्राधिकरण ने जेपी स्पोर्टस सिटी को दी 1,000 हेक्टेयर जमीन का आवंटन रद्द कर दिया था। कंपनी प्राधिकरण के इस फैसले के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट गई है। मामले में आज सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए जेपी ग्रुप को आदेश दिया कि 100 करोड़ रुपये जमा करें। अब इस मामले में अगली सुनवाई अप्रैल में की जाएगी।

बता दें कि यमुना अथॉरिटी ने जेपी ग्रुप को यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे स्पोर्टस सिटी बसाने के लिए 1,000 हेक्टेयर जमीन का आवंटन किया था। इस जमीन पर जेपी ग्रुप ने फार्मूला वन रेसिंग ट्रैक बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट, क्रिकेट और फुटबॉल स्टेडियम बनाए हैं। जेपी समूह ने इस जमीन पर 10 आवासीय परियोजनाएं लॉन्च की थीं। इन आवासीय परियोजनाओं में 4,506 खरीदार हैं।

जिनसे कंपनी ने 2,400 करोड़ रुपये में से 1,900 करोड़ रुपये वसूल लिए हैं। खरीदारों से इतना पैसा लेने के बावजूद उनको घर-भूखंड नहीं मिले हैं। इसके अलावा यमुना अथॉरिटी के 1,043.92 करोड़ रुपये बकाया है। खरीदारों को कब्जा नहीं देने और प्राधिकरण का पैसा बकाया होने के चलते यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण ने आवंटन रद कर दिया है।

जेपी स्पोर्टस सिटी को आवंटित 1,000 हेक्टेयर जमीन के आवंटन को रद्द करने के लिए प्राधिकरण के बोर्ड ने 12 फरवरी को प्रस्ताव पारित किया था । इसके बाद विकास प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने आवंटन निरस्त किया था। जिसके खिलाफ कंपनी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर की।

याचिका पर हाईकोर्ट में मंगलवार को सुनवाई की। जिसमें हाईकोर्ट ने जेपी ग्रुप को 100 करोड़ रुपये जमा करने का आदेश दिया है। अब अगली सुनवाई अप्रैल में होगी। इस बारे में यमुना अथारिटी के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह का कहना है कि कंपनी यमुना अथॉरिटी का बकाया भुगतान नहीं कर रही है। कंपनी को 20 से ज्यादा बार नोटिस भेजे गए थे। पैसा जमा करना तो दूर जवाब तक नहीं दिया गया था। लिहाजा , आवंटन रद किया है। हाईकोर्ट के आदेश का पालन किया जाएगा।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.