प्रथम एन आर माधव मेनन सार्क मूट प्रतियोगिता के सार्क (अंतरास्ट्रीय) राउंड में भारतीय टीम विजेता

GREATER NOIDA LOKESH GOSWAMI 2

3

4

आज  लॉयड लॉ कॉलेज में प्रथम एन आर माधव मेनन सार्क मूट प्रतियोगिता के सार्क (अंतरास्ट्रीय) राउंड का समापन एवं इनाम वितरण  समारोह रखा गया. इनाम वितरण के पश्चात सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया  गया .प्रतियोगिता के रिजल्ट की भी  घोसणा की गई. प्रतियोगिता के फाइनल राउंड में भारत के विख्यात पांच न्यायाधीशों की बेंच बैठी  थी . दिल्ली उच्च न्यायालय के वरिष्ठ न्यायाधीशों के नाम है -माननीय न्यायमूर्ति श्री जयंत  नाथ, माननीय न्यायमूर्ति श्री नजमी वजीर, माननीय न्यायमूर्ति श्री विभु बाखरु ,  न्यायमूर्ति श्री मेहता, माननीय न्यायमूर्ति सुश्री संगीता ढींगरा सहगल. इस  कार्यक्रम का आयोजन  लॉयड लॉ कॉलेज एवं  MILAT -मेनन इंस्टिट्यूट ऑफ़ लीगल एडवोकेसी एंड ट्रेनिंग की सहायता से किया गया. पद्मश्री प्रो एन आर माधव मेनन जो की कार्यक्रम के सम्मानीय अतिथि थे , जिन्होंने भारत में प्रथम बार ballb ५ वर्षीय  कोर्स आरम्भ किया . सभी सार्क देशों से  सर्वश्रेष्ठ लॉ स्कूल  की 15 टीमों ने इस प्रतियोगिता के सार्क  राउंड में हिस्सा लिया  .प्रतियोगिता तीन  चरणों में विभाजित थी -प्री , सेमी फाइनल ,फाइनल. मूट कोर्ट की थीम सामाजिक न्याय, बहुचर्चित विषय  -अंतरास्ट्रीय मानविकी न्याय के विभिन्न पहलुओं से  सम्बंधित विषय ,शरणार्थी समस्या, विस्थापन ,मानवाधिकार , पर थी. सार्क देशों की सभी टीमों ने जोरदार कौशल का प्रदर्शन किया.प्रथम  एनआर माधव मेनन सार्क मूटिंग  प्रतियोगिता की  विजेता टीम गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, घोसित की गई . इस प्रकार सार्क देशों में भारत की टीम विजेता बनी. प्रतियोगिता के विजेता हैं:

  1. सर्वश्रेष्ठ  मेमोरियल – क्राइस्ट  विश्वविद्यालय, बंगलौर
  2. दूसरा सबसे अच्छा मेमोरियल  – लॉ  स्कूल काठमांडू
  3. सर्वश्रेष्ठ वक्ता (पुरुष) – प्रशांत नंदराज , क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बंगलौर
  4. सर्वश्रेष्ठ वक्ता (महिला) – अनीषा गुप्ता, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बंगलौर

5-छात्र सम्मेलन का सबसे अच्छा प्रस्तोता, लॉ  स्कूल काठमांडू से आदित्य  कार्की  बन गया है, जबकि रनर अप पाण्डुका  डब्ल्यू ,  कोलंबो विश्वविद्यालय बन गया।

पुरुष्कार वितरण के पश्चात सार्क देशों कि संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गए. प्रतियोगिता का मुख्य  उद्देश्य युवा वकीलों को अपना भविष्य उभरने को प्रोत्साहन देना है. प्रो शिव कुमार द्वारा नॉएडा में माधव मेनन विश्वविद्यालय बनाने की घोसणा की गई  .उद्घाटन समारोह में कई विधि विष्वविद्यालयों के वाईस चांसलर एवं प्रतिष्ठित  कानूनी दिग्गज शामिल थे .राष्ट्रीय प्रशासकों के साथ सार्क देशों अर्थात पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, अफगानिस्तान और मालदीव के दूतावासों से  आये प्रशाशक एवं आब्जर्वर  मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.