The National Judicial Appointments Commission Bill, 2014 – Comments by Shravan Kumar Sharma

502
 उक्त बिल उन्होंने सदन के पहले सत्र में ही प्रस्तुत किया और सर्वसम्मति से पारित कराया.यह उनकी राजनीतिक परिपक्वता का परिचय देता है.कुछ वरिष्ठ वकीलों को बिल की आवश्यकता पर विवाद नहीं है ,बल्कि बिल पास करने की तेजी को लेकर  वे परेशान हैं यदि देश की न्यायपालिका में सुधार आ जाता है तो अन्य क्षेत्रों में सुधार लाना आसान होगा. आज न्याय व्यवस्था महँगी है और कुछ बड़े वकील उसे अपने हिसाब से चलाने की स्थिति में प्रतीत होते  हैं.

You might also like More from author

Comments are closed.