बिमटेक विद्या केंद्र में निबंध एवं चित्रकला प्रतियोगिता का हुआ आयोजन, ओएसडी ने सोच को बताया “समाज कल्याण”

ABHISHEK SHARMA / BAIDYANATH HALDER

0 72

Greater Noida (28/09/19) : बिमटेक विद्या केंद्र द्वारा आज यहां पढ़ने वाले छात्रों के लिए निबंध एवं चित्रकला की प्रतियोगिता आयोजित की गई। जिसमें यहां पढ़ने वाले सभी बच्चों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। वहीं ग्रेटर नोएडा के कई अन्य प्राइमरी स्कूल के बच्चों ने भी इस प्रतियोगिता में भाग लिया। इस दौरान मुख्य अतिथि के तौर पर यमुना प्राधिकरण के ओएसडी शैलेंद्र कुमार भाटिया एवं परीचौक डॉट कॉम के संस्थापक गजानन माली उपस्थित रहे।



बिमटेक विद्या केंद्र द्वारा 23 व 24 सितंबर को ग्रेटर नोएडा के 5 स्कूलों के बच्चों के लिए निबंध प्रतियोगिता रखी गई थी। जिसमें कुल 249 छात्र-छात्राओं ने भाग लिया था। वही, आज चित्रकला प्रतियोगिता बिमटेक विद्या केंद्र में आयोजित की गई। चित्रकला प्रतियोगिता की थीम “गांधी ही विकल्प” थी। जिसके तहत बच्चों को चित्र बनाने के लिए कहा गया। इस दौरान छोटे-छोटे बच्चों ने बेहद सुंदर चित्र बनाकर सभी का मन मोह लिया। निबंध एवं चित्रकला प्रतियोगिता में कुल 24 बच्चों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।

वहीं इस मौके पर यमुना प्राधिकरण के ओएसडी शैलेंद्र कुमार भाटिया ने बिमटेक विद्या केंद्र का निरीक्षण किया, जिससे वे बेहद प्रभावित नजर आए। इस दौरान उन्होंने टेन न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी द्वारा यह बेहद सराहनीय पहल की शुरुआत की गई है।

जिसमें सैकड़ों ऐसे बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे है, जिन्होंने कभी स्कूल जाने के बारे में सोचा भी नहीं था। इस पहल के लिए बिमटेक कॉलेज की समस्त टीम एवं प्रोफेसर ऋषि तिवारी को बधाई दी।  उन्होंने कहा कि  लोगों की भलाई के बारे में सोचना ही समाज कल्याण कहलाता है। जब एक इंसान अपने हित को छोड़कर दूसरे लोगों के बारे में सोचना शुरु कर दे तो तो समाज कल्याण की शुरुआत यहीं से हो जाती है।

उनका कहना है कि बिमटेक द्वारा यह एक अनूठी पहल है। समाज के लोगों को उससे सीख लेनी चाहिए और “अंडर द ब्रिज” ऐसे और स्कूलों की स्थापना की जानी चाहिए जिससे कि जो लोग पढ़ नहीं सकते वह यहां आकर शिक्षा ग्रहण करें और उनका कल्याण हो सके।

प्रोफेसर डॉ ऋषि तिवारी ने सभी बच्चों को इसी तरह मेहनत के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया एवं जीवन में ईमानदारी के पथ पर चलने की सीख दी।

वहीं, परीचौक डॉट कॉम के संस्थापक गजानन माली ने प्रतिभाग करने वाले बच्चों से कहा की जीवन में एक लक्ष्य बनाओ और उसको लेकर मेहनत करें एवं जब तक लक्ष्य न भेद लिया जाये तब तक कदम रुकने नहीं चाहिए।

बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट टेकनोलॉजी निरंतर अपनी कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सबिलिटी के तहत सामजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेता है। इसी क्रम में परी चौक मेट्रो स्टेशन के नीचे पड़ी खली जगह को बड़े ही परिवर्तनात्मक तरीके से इस्तेमाल करते हुए “बिमटेक जनता विद्यालय” की स्थपना की थी। साथ ही उसी परिसर में “बिमटेक जनता पुस्तकालय एवं बच्चों के लिए कंप्यूटर लैब” की भी शुरुआत की है।

इस मुहीम के तहत समाज के उपेक्षित वर्ग के बच्चों के लिए बिना किसी शुल्क पढ़ाई की व्यवस्था की ‘गई है। इसके अलावा कोई भी पंजीकरण के बाद जनता पुस्तकालय व साथ में दी जाने वाली कम्प्यूटर ट्रेनिंग ले सकता है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.