यमुना विकास प्राधिकरण – प्राधिकरण आवासीय सेक्टर में आंतरिक विकास कार्य तेज कर दिया है।

104

ग्रेटर नोएडा।यमुना विकास प्राधिकरण द्वारा करीब चार साल पहले लाई गई आवासीय भूखंडों की स्कीम के आवंटियों को अगले साल तक पॅजेशन दे दिया जाएगा। प्राधिकरण आवासीय सेक्टर में आंतरिक विकास कार्य तेज कर दिया है। आवासीय सेक्टर को पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे से जोड़ा जाएगा। इसके लिए प्राधिकरण ने टैंडर भी आवंटित कर दिया है। साथ ओवर हेड टैंक भी बनाए जाएंगे।
यमुना विकास प्राधिकरण द्वारा अक्टूबर 2009 में पहली बार आवासीय भूखंडों की स्कीम लांच किया गया था। 21 हजार भूखंडों की स्कीम लांच की गई थी, जो 300, 400, 500 और 1000 वर्ग मीटर के हैं। आवासीय योजना के लिए अधिग्रहित की गई जमीन पर किसानों द्वारा कोर्ट से स्टे ले लिया गया है। जिसके चलते आवासीय सेक्टर का आंतरिक विकास प्राभावित हो रहा है। वहीं, प्राधिकरण आपसी समझौते से समस्या का समाधान कर रहा है। प्राधिकरण की माने तो आवासीय भूखंड के आवंटियों को अगले साल तक पॅजेशन दे दिया जाएगा। इसके लिए आवासीय सेक्टर में आंतरिक विकास कार्य तेज कर दिया गया है। आवासीय सेक्टर में एक पेरिफेरल रोड बनाई जाएगी, जो 100 मीटर चैड़ी होगी। यह सड़क सेक्टर 28 और 33 के बीच से होकर गुजरेगी। इस पर प्राधिकरण 545 लाख रुपये खर्च करेगा। सेक्टर 29 और 32 के बीच भी एक 100 मीटर चैड़ी सड़क बनाई जाएगी। जिस पर 446 लाख रुपये खर्च होंगे। सेक्टर 29 और सेक्टर 32 के बीच एक 100 मीटर चैड़ी सड़क भी बन रही है। जिस पर 452 लाख खर्च होंगे। सेक्टर 9 और 32 के बीच 492 लाख रुपये से 75 मीटर चैड़ी सड़क बनाई जाएगी। आवासीय सेक्टर 22 में 549 लाख रुपये से आरसीसी और ड्रेन बनाए जाएंगे। जबकि सेक्टर 18 में 288 लाख रुपये की लागत से 2400 किलो लीटर क्षमता की एक ओवर हेड टैंक बनेगा और एक अन्य ओवर हेड टैंड सेक्टर 18 के जोन वन में बनाया जाएगा। इसकी क्षमता 2700 किलोलीटर होगी और लागत करीब 322 लाख आएगी। प्राधिकरण के सीईओ पीसी गुप्ता का कहना है कि सेक्टर में आंतरिक विकास कार्य तेज कर दिया गया है। सड़क, ड्रेन और पानी टंकी बनाने के लिए टैंडर छोड़ दिया गया है। कोशिश की जा रही है कि अगले साल सभी आवंटियों को पॅजेशन दे दिया जाए।

Comments are closed.