दिल्‍ली : मास्‍क न पहनने पर हुई बड़ी कार्यवाही, 1.88 लाख लोगों का कटा चालान, वसूले गए 9.42 करोड़ रुपये

Rohit Sharma

0 210

नई दिल्ली :– देश-दुनिया में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस संक्रमण निपटने के लिए विशेषज्ञ बार-बार सावधानी बरतने की सलाह देते हैं. इनमें घर से बाहर निकलते समय फेस मास्‍क पहनना, हाथों को बार-बार धोना और सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करना शामिल है।

 

इसके बावजूद दिल्‍ली समेत कुछ शहरों में लोग इन नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं. इस बीच दिल्‍ली में भी लोगों की ओर से बड़ी संख्‍या में नियमों का पालन नहीं करने की बात सामने आई है।

 

इसके तहत दिल्‍ली में 14 जून से अब तक सार्वजनिक स्‍थलों पर मास्‍क न पहनने की वजह से 1,88,578 लोगों का चालान दिल्‍ली पुलिस ने काटा है. इनसे व अन्‍य नियमों के उल्‍लंघन के मामलों को मिलाकर अब तक 9.52 करोड़ रुपये लोगों से वसूले जा चुके हैं।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने कोविड-19 दिशा-निर्देशों के सख्त पालन के लिए निर्देश जारी किए हैं. साथ ही कहा कि सार्वजनिक स्थलों पर हर किसी को मास्क पहनना होगा और शारीरिक दूरी का ध्यान रखना होगा।

 

रिपोर्ट के अनुसार जून में दिल्‍ली सरकार की ओर से मास्‍क न पहनने वालों का 500 रुपये के चालान का नियम बनाया गया था. इसे दिल्‍ली एपिडेमिक डिसीजेज (मैनेजमेंट ऑफ कोविड 19) रेगुलेशंस 2020 के तहत दिल्‍ली के उप राज्‍यपाल ने भी मंजूरी दी थी. इसका मकसद लोगों को मास्‍क पहनने के लिए बाध्‍य करना था।

 

आंकड़ों के अनुसार दिल्‍ली में सबसे कम चालान नई दिल्‍ली में हुए हैं. इनकी संख्‍या 6482 है. वहीं सबसे अधिक 22136 चालान बाहरी दिल्‍ली में हुए हैं. इनमें मंगोलपुरी, अमन विहार, सुल्‍तानपुरी जैसे इलाके हैं. पश्चिमी दिल्‍ली में 16772 चालान हुए।

 

एक पुलिस अफसर के मुताबिक दिल्‍ली में जिन लोगों के चालान हुए हैं, उनमें बड़ी संख्‍या वाले वो लोग हैं जो मास्‍क का खर्च उठा सकते हैं. इसके बावजूद वे सार्वजनिक जगहों पर बिना मास्‍क के निकल जाते हैं. उनका कहना है कि इन लोगों के पास मास्‍क ना पहनने का कोई कारण नहीं होता है. लोगों पर जुर्माना लगाना कोई उपाय नहीं है, हां ये एक विकल्‍प है. उनका कहना है कि वे लोग ऐसे व्‍यक्ति का चालान नहीं काटते हैं जो उसका खर्च नहीं उठा सकता. जबकि वे लोग ऐसे लोगों को मास्‍क उपलब्‍ध कराते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.