जर्मनी में मौजूद भारत का युवा देशभक्त : जो गलती इटली, जर्मनी, स्पेन ने की है, वह भारत में न दोहराएं

ABHISHEK SHARMA

0 310

Noida (21/03/20) : जर्मनी में रह रहे भारतीय मूल के नागरिक ने एक वीडियो जारी करते हुए लोगों से सचेत रहने की अपील की है। इस वीडियो में दिख रहे युवक का कहना है कि मैं जर्मनी के शहर में हूं और आज 6 दिन बाद घर से बाहर निकला हूं। मेरे जैसे कई लोग हैं जो काफी दिनों बाद घर से बाहर निकले हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि यह लोग डरपोक है लेकिन जब तक अपनी जरूरत की चीजें खत्म नहीं हो जाती तब तक घर से बाहर नहीं निकलना है।

यह बहुत बड़ी सोशल रिस्पांसिबिलिटी है और यह वीडियो उन लोगों के लिए है जो भारत में रहकर यह सोच रहे हैं कि कोरोना भारत में नहीं आ सकता, तो इस भूल में ना रहे। यही गलती कुछ समय पहले जर्मनी, इटली और स्पेन ने की थी। क्योंकि अगर यहां पर स्टेज-1, 4 मार्च के आंकड़े देखे जाएं तो यहां संक्रमित लोगों की संख्या 500 से 600 थी।

वहीं स्टेज-2,14 मार्च से शुरू हुआ। इस दौरान यहां 5 हजार कोरोना के मामले थे। वही 19 मार्च से यहां स्टेज-3 शुरू हुई और आज यहां 15 हजार के आसपास संक्रमित लोगों की संख्या है तो यह गलती भारतवासी ना करें। घर पर रहे, घर से बाहर ना निकले, क्योंकि हमारे देश में अगर यह फैल गया तो बहुत ज्यादा मुश्किलें हो जाएंगी।

क्योंकि जर्मनी, इटली ,स्पेन जैसे देश काफी एडवांस हैं। यहां की स्वास्थ्य सेवाएं जनसंख्या के हिसाब से काफी बेहतर हैं। वहीं अगर भारत की बात की जाए तो यहां की जनसंख्या 130 करोड़ है और ऐसे में अगर यह वायरस यहां फैल गया तो तो लोगों का बचना काफी मुश्किल हो जाएगा।
युवक का कहना है कि जर्मनी के लोग सामाजिक नहीं है। यह लोग एक दूसरे से एक कम मेलजोल रखते हैं फिर भी इतनी तेजी से यह वायरस यहां पर पनपा तो सोचो भारत की क्या स्थिति होगी? क्योंकि हमारे देश में लोग एक दूसरे से ज्यादा मिलते हैं। अगर ऐसे ही लोग एक दूसरे से मिलते रहे तो यह वायरस बहुत बड़े संकट के रूप में भारत पर हमला करेगा।

जो लोग नौजवान हैं वे खासकर सचेत रहें। यह न सोचें कि हम जवान हैं और हमारा इम्यून सिस्टम बेहतर है तो यह गलतफहमी दिमाग से निकाल दें और लोगों से मिलना जुलना ना के बराबर कर दें। क्योंकि हमारे घर में बच्चे बुजुर्ग रहते हैं। लोगों से ज्यादा मिलना जुलना हमारे खुद के परिवार के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

देशभक्ति दिखाने का इससे आसान मौका कहीं नहीं मिलेगा। लोगों को हथियार लेकर बॉर्डर पर जाने को नहीं कहा जा रहा है। अपने घर रहे लोगों से दूरी बना कर रहे, मिलना जुलना कम कर दें। भारत सरकार अपनी तरफ से हर संभव कोशिश कर रही है लेकिन जब तक चेन नहीं टूटेगी तो यह वायरस इसी प्रकार फैलता रहेगा। जो गलती इटली, चीन, जापान, फ्रांस ने की है, वह भारत में न दोहराएं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.