जी. एल. बजाज संस्थान में मानव संसाधन पर वर्कशाप

जी. एल. बजाज संस्थान में मानव संसाधन पर वर्कशाप

जी. एल. बजाज संस्थान में मानव संसाधन पर वर्कशाप

जी. एल. बजाज इन्स्टीट्यूट आफ मैनेजमेण्ट एण्ड रिसर्च, ग्रेटर नोएडा द्वारा श्ैजतंजमहपब ज्ंसमदज ।बुनपेपजपवद ंदक ॅवतावितबम च्संददपदहश् विषय पर एच आर वर्कशाप का आयोजन किया गया, जिसमें कारपोरेट और शिक्षा जगत की नामी-गिरामी हस्तियों ने सिरकत किया, जिसमें आईआईएम कलकत्ता के पूर्व प्रोफेसर एवं एमडीआई गुड़गाॅव के पूर्व डीन व मुंजल शोआ लिमिटेड के नान एक्सीक्यूटिव एण्ड इन्डिपेन्डेण्ट डायरेक्टर प्रोफेसर के. सी. सेठी के अलावा मित्स कन्सल्टिंग के सीईओ श्री अमित आनन्द व श्री कुशाग्र अग्रवाल-प्रिन्सिपल पार्टनर, एपीएसी एण्ड केएनआर मैनेजमेण्ट कन्सल्टिंग आदि प्रमुख थे। ज्ञातव्य हो कि विगत वर्षों में जी. एल. बजाज संस्थान ने एच आर के विभिन्न विषयों पर समिट एवं वर्कशाप के कई सफल आयोजन किया है।
वर्कशाप तीन चरणों में सम्पन्न हुआ। सभी प्रमुख वक्ताओं ने विषयान्तर्गत अपने विचार प्रकट किये। प्रोफेसर के.सी. सेठी ने अपने वक्तव्य में बताया कि संस्थाओं का वर्किग माडल कैसा हो, जिससे कर्मचारियों का आकर्षण व जुड़ाव निरन्तर बना रहे। उन्होंने आईआईएम जैसी अग्रणी संस्थाओं का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए इम्प्लायमेण्ट बै्रडिंग सम्बन्धी टिप्स भी दिये। अन्य प्रमुख वक्ताओं ने प्रतिभा की पहचान, टैलेण्ट एक्यूजिसन स्ट्रेटजी की महत्ता और मानव संसाधन एवं बिजनेस स्ट्रेटजी में इसकी उपयोगिता पर जानकारी दी।
जी. एल. बजाज संस्थान के वाइस चेयरमैन श्री पंकज अग्रवाल ने उपस्थित महानुभावों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि इस वर्कशाप का मुख्य उद्देश्य मैनेमेण्ट के छात्रों में वर्ष 2020 के टैलेण्ट एक्यूजीशन सम्बन्धी चुनौतियों का सामना करने की क्षमता का विकास करना एवं भविष्य में एच आर की अन्य चुनौतियों व उनके समाधान से उन्हें अवगत कराना था। उन्होंने कहा कि जी.एल. बजाज संस्थान ऐसे आयोजनों के माध्यम से छात्रों को निरन्तर लाभान्वित करता रहेगा जिससे उनमें उत्कृष्ट प्रबन्धन क्षमता का विकास हो सके।
अपने समापन भाषण एवं धन्यवाद प्रस्ताव में संस्थान के प्रोफेसर (डाॅ.) टी.एस. मोहनचन्द्रलाल ने इस अवसर पर उपस्थित सभी प्रतिष्ठित एवं सम्मानित जनों का आभार प्रकट किया। इस वर्कशाप के संयोजक एवं सह संयोजक प्रोफेसर भुवनेश्वरी एस., प्रोफेसर प्रीति दीक्षित एवं प्रोफेसर अजय शर्मा थे।

 

Comments

comments