ताइवान एक्सपो 2018 की दिल्ली में रंगारंग शुरुआत, दोनों देशों को बताया “प्राकर्तिक भागिदार” !

ROHIT SHARMA / JITENDER PAL

61

नई दिल्ली :–‘ताइवान एक्सपो 2018’ आज पहली बार नई दिल्ली में रंगारंग उद्घाटन समारोह के साथ शुरू हुआ। प्रगति मैदान में आयोजित हुए इस समारोह में भारत में ताइपे इकोनॉमिक एंड कल्चरल सेंटर (टीईसीसी) के प्रतिनिधि चुंग-क्वांग टिएन,भाजपा की नेता मिनाक्षी लेखी , हरीश मीणा फेडरेशन ऑफ इंडिया चैम्बर्स आॅफ काॅमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) की इलेक्ट्रॉनिक्स एंड व्हाइट गुड्स मैनुफैक्चरिंग कमिटी के अध्यक्ष सोम मित्तल, इंडिया ट्रेड प्रमोशंन आॅर्गनाइजेशन (आईटीपीओ) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेषक एल. सी. गोयल सहित भारत और ताइवान की व्यापारिक दुनिया से कई जाने-माने लोग और अन्य सम्मानित प्रतिनिधि और गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे ।

ताइवान एक्सपो 2018 के बारे में बताते हुए, टीएआईटीआरए के अध्यक्ष जेम्स सी. एफ. हुआंग ने कहा की ये एक ऐसा एक्सपो है जो भारत और ताइवान को करीब लाएगा , दोनों देशों के बीच व्यापार संबंधों और संवाद के मामले में व्यापक तालमेल दिखने लग रहा है । आज एक प्रतीकात्मक दिन है क्योंकि यह एक नए अध्याय की शुरुआत को परिलक्षित करता है जो ताइवान और भारत के बीच व्यापार और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभायेगा। भारत 21 वीं शताब्दी का आर्थिक सुपर पावर बनने को तैयार है। दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था, भारत में कई विशाल संस्थान, अनुसंधान एवं विकास केंद्र और तकनीकी उन्मुख मैनपावर है। इसकी अर्थव्यवस्था 2025 तक 5 ट्रिलियन अमरीकी डालर से अधिक होने वाली है और यह 2025 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार होगा। ताइवान और भारत ने हाल के वर्षों में विशेष रूप से व्यापार के संबंध में घनिष्ठ संबंध विकसित किए हैं। दिसंबर 2017 तक, भारत में ताइवान से कुल निवेश राशि 355 मिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गई। इसी प्रकार, 2017 में हमारा द्विपक्षीय व्यापार 6.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया जिसके कारण ताइवान भारत का 18 वां सबसे बड़ा व्यापार भागीदार बन गया।

भारत के बाजार के बारे में और जानकारी देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘भारत के बाजार में काफी क्षमता है जिसका अभी तक ताइवान व्यापार समुदाय के द्वारा पता लगाया जाना बाकी है। यह विशेष आयोजन दोनों देशों के बिजनेस लीडर को विचारों का आदान-प्रदान करने और विशेषज्ञता साझा करने का मौका प्रदान करता है। बढ़ती भारतीय अर्थव्यवस्था और इलेक्ट्रॉनिक्स, हरित उत्पाद और चिकित्सा जैसे क्षेत्रों में ताइवान की विषेशज्ञता दोनों देशों को प्राकृतिक भागीदार बनाते हैं। मुझे पूरा भरोसा है कि सभी प्रदर्शक नए व्यावसायिक संपर्क बनाने में सक्षम होंगे, जबकि आगंतुकों को यह पता चल जाएगा कि हमारे उत्पादों और सेवाओं को अद्वितीय और विशेष क्या बनाता है।’’

वही इस कार्यक्रम में आयी भाजपा की नेता मिनाक्षी लेखी ने समारोह की सरहाना करते हुए कहा भारत और ताइवान व्यापार और कॉमर्स के क्षेत्र में आगे बढ़ेंगे। अच्छी दोस्ती हमेशा अच्छे व्यापार लाती हैं। ताइवान में अच्छी गुडवत्ता वाले चिकित्सक हैं , भारत में अच्छी गुडवत्ता वाले गणितज्ञ हैं , इन दोनों के मिश्रण से दोनों देश एक साथ आने वाले उत्पादों का सर्वोत्तम उत्पादन कर सकते हैं।

उद्घाटन समारोह में ताइवान स्थित एसीई ऑप्टोइलेक्ट्रॉनिक क्रियेशन के द्वारा बनाई गई एक विशेष और अद्वितीय एनीमेशन भी प्रदर्शित की गई। आयोजन के बाद प्रतिनिधियों और गणमान्य व्यक्तियों ने एक्सपो में सभी स्टालों का दौरा किया |

आपको बता दे की इस प्रदर्शनी में 8 थीम पर आधारित है । मीट ताइवान, ताइवान ईवी अलायंस, ताइवान फूड प्रोसेसिंग मशीनरी, ताइवान ग्रीन प्रोडक्ट्स, ताइवान हेल्थकेयर, ताइवान टूरिज्म, ताइवान एक्सेलेंस और ताइवान स्मार्ट सिटी। प्रदर्शनी क्षेत्रों में कृषि और खाद्य, ईवी, ऑटो पार्ट्स और फास्टनर्स, घरेलू उत्पाद, आईसीटी और ग्रीन प्रोडक्ट्स, मंदारिन शिक्षा और व्यापार सेवाएं, चिकित्सा उपकरण, स्वास्थ्य और पर्सनल केयर, स्पोर्ट्स और आउटडोर और वस्त्र शामिल हैं। ताइवान से भाग लेने वाली कंपनियां ताइवान की नवीनतम तकनीकों, पर्यावरण अनुकूल उत्पादों और औद्योगिक कौशल का प्रदर्शन करेंगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.