जीएनआईओटी – मैनेजमेंट स्कूल ने की इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी पर चर्चा

0 233

ग्रेटर नॉएडा 21 नवंबर 2013:- जीएनआईओटी ग्रुप ऑफ़ इंस्टीटूशन्स ने प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया जिसमे मैनेजमेंट स्कूल संस्थान की डायरेक्टर- प्रोफेसर डॉ सविता मोहन ने 23 नवंबर को होने वाले नेशनल कांफ्रेंस के विषय में जानकारी दी। जीएनआईओटी – मैनेजमेंट स्कूल में आयोजित इस नेशनल कांफ्रेंस का विषय- “इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के युग में स्थायी विकास के लिए रणनीति” है। नेशनल कांफ्रेंस में प्रोफेसर के के अगरवाल- चांसलर, के आर मंगलम यूनिवर्सिटी मुख्य अतिथि के रूप म शिरकत करेंगे और विशिष्ठ अतिथि के रूप में श्री डी एस मालिक- एडिशनल डायरेक्टर जनरल, फाइनेंस मिनिस्ट्री, भारत सरकार, मौजूद रहेंगे। इस कांफ्रेंस में फाइनेंस, एच आर, मार्केटिंग, आई टी, अंतरराष्ट्रीय व्यापार जैसे विषयों पर चर्चा होगी। अभी तक 10 रिसर्च पेपर कॉलेज में प्रस्तुत हो चुके है जिनमे 05 पेपर विदेशों से आये है , जिनमे शामिल है माहे कैम्पस दुबई और मैनचैस्टर यूनिवर्सिटी। साथ ही भारत के अलग अलग हिस्सों से शोधकर्ताओं ने रूचि ली है जिनमे कुछ विश्विद्यालयों के नाम है लिंग्यास यूनिवर्सिटी, मोनार्ड यूनिवर्सिटी, बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, लखनऊ यूनिवर्सिटी आदि। कार्यक्रम में लगभग 500 शोधार्थि और 300 विद्यार्थी भाग लेंगे।

डॉ सविता मोहन ने कहा कि इंडस्ट्री और टेक्नोलॉजी में तेज़ी से बदलाव आ रहे हैं, ऐसे में स्थाई विकास के लिए तकनीक के सही उपयोग पर रणनीति तैयार करने की आवश्यकता है। कांफ्रेंस के विषय का महत्व बताते हुए उन्होने कहा कि शिक्षा और ज्ञान आधुनिक युग के सार है और स्थायी विकास के लिए महत्वपूर्ण संसाधन भी। इंडस्ट्री में हो रहे बदलावों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी इंडस्ट्री के सफल संचालन के लिए बहुत ज़रूरी है कि विश्वभर में व्यावसायिक गतिविधियों को प्रभावित करने वाले मुद्दों और अवधारणाओं पर विचार विमर्श हो।

इस नयी सदी में सफल प्रबंधन के लिए ऐसे तरीकों और दृष्टिकोण को विकसित करने की आवश्यकता है जो कि सूचना तकनीक से प्रभावित इस युग की चुनौतियों और अवसरों के अनुरूप हो। सूचना तकनीक का महत्व आज इतना बढ़ गया है कि यह कहना गलत नही होगा कि तकनीकी विकास औद्योगिक युग से सूचना युग की ओर बढ़ रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.