राफेल विमान सौदे में आए नए खुलासे को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी को घेरा, रक्षामंत्री का मांगा इस्तीफा

ROHIT SHARMA

0 246

दिल्ली :– कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनीष तिवारी ने प्रेस वार्ता करते हुए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के पूर्व प्रमुख टी. एस. राजू के राफेल विमान सौदे से जुड़े एक बयान को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा | उन्होंने कहा की देश के लोगों को गुमराह करने के लिए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए.|

साथ ही मनीष तिवारी ने कहा कि हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के पूर्व प्रमुख टी. एस. राजू के बयान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री की तमाम दलीलों को ध्वस्त कर दिया है | ऐसे में केंद्र सरकार को ‘राफेल घोटाले’ की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति का गठन करना चाहिए |

वही मनीष तिवारी ने एक अंग्रेजी अखबार में छपे राजू के साक्षात्कार का हवाला देते हुए कहा की भाजपा सरकार राफेल विमान सौदे को लेकर लगातार झूठ बोलती आ रही है और वह अपने ही झूठ के मायाजाल में फंसती जा रही है | एचएएल के पूर्व प्रमुख टी.एस. राजू ने जो बातें कही हैं, उनसे इस सरकार की सभी दलीलें ध्वस्त हो गई हैं. अब सरकार और रक्षा मंत्री का झूठ बेनकाब हो चुका है.|

उन्होंने कहा हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के पूर्व प्रमुख टी. एस. राजू ने दो बातें कही हैं. पहली बात यह है कि एचएएल और दसाल्ट के बीच कार्यविभाजन समझौता पूरा हो गया था और इसकी फाइलें सरकार को सौंप दी गई थीं | दूसरी बात उन्होंने यह कही है कि अगर एचएएल को कॉन्ट्रैक्ट मिलता तो राफेल विमानों का निर्माण यह कंपनी करती क्योंकि उसके पास सुखोई 30 के विनिर्माण और मिराज विमान के रखरखाव का लंबा अनुभव है |

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने मोदी पर निशाना साधते हुए कहा लो श्रीमान 56 में अगर हिम्मत है तो वह कार्यविभाजन समझौते से जुड़ी सारी फाइलें सार्वजनिक करें | साथ ही रक्षा मंत्री ने अपने मंत्रालय के तहत आने वाले सार्वजनिक उपक्रम की क्षमता पर सवाल खड़ा किया और देश को गुमराह किया | अब उन्हें अपने पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है. उन्हें तत्काल इस्तीफा देना चाहिए.

वही दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी ने आरएसएस मोहन भागवत के दिए बयानों को लेकर आरोप लगाया कि चुनाव नजदीक आने पर भाजपा और आरएसएस का शीर्ष नेतृत्व राममंदिर की बात करने लगता है | आपको बता दे की आरएसएस के हालिया कार्यक्रम ‘भविष्य का भारत’ में भागवत के संबोधन के बारे में पूछे जाने पर मनीष तिवारी ने कहा आरएसएस का रुख 370 पर नहीं बदला, लेकिन 377 पर बदल गया | इनकी बातों में विरोधाभास है , चाहे कुछ भी हो जाए, लेकिन किसी व्यक्ति या संगठन का डीएनए नहीं बदल सकता |

राम मंदिर के निर्माण संबंधी भागवत के बयान पर मनीष तिवारी ने कहा की इसमें कुछ नया नहीं है | वर्ष 1986 से 2018 का इतिहास उठाकर देख लीजिए , भाजपा और आरएसएस के शीर्ष नेतृत्व ने हमेशा चुनाव से पहले राम मंदिर की बात की है | जब चुनाव आता है तो इनको राममंदिर की याद आ जाती है | एक अन्य सवाल के जवाब में कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा की हमारा मानना है कि इस देश में रहने वाला हर व्यक्ति भारतीय है , हर व्यक्ति की एक क्षेत्रीय और धार्मिक पहचान होती है, लेकिन सभी लोग भारतीय हैं |

Leave A Reply

Your email address will not be published.