निरोगी राजस्थान – राजस्थान सरकार ने 5.84 लाख से अधिक किए कोविड परीक्षण

0 239

देश में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमणों को देखते हुए, प्रत्येक राज्य ने नई दिशानिर्देशों और रणनीति के साथ केंद्र की नीतियों के साथ मिलकर काम कर रहे है। कई राज्यों की रिपोर्टिंग के तहत, वेंटिलेटर और अन्य उपकरणों की उपलब्धता  में कमी के चलते, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के उदाहराणिय  कदमों के कारण, राज्य में कोविड की लड़ाई में एक समय में हजारों रोगियों के इलाज के लिए पर्याप्त बैकअप के साथ तैयार है। जहां पर करीब राजस्थान में लगभग 407 कोविड अस्पतालों और देखभाल केंद्र उपलब्ध है ।

राजस्थान में संक्रमणों की बढ़ती संख्या को देखते हुए, सरकार ने हजारों रोगियों के इलाज के लिए कोविड अस्पतालों में बेडों  की व्यवस्था  कर रखी है है। कोविड से निपटने के लिए वृहद स्तर पर 407 अस्पतालों और कोविड केयर सेंटर  में 43,704 बेडों की व्यवस्था की गई हैं, जिनमें से 8090 बेडों  पर ऑक्सीजन  की सुविधा उपलब्ध हैं, 1672 आईसीयू बेड हैं और 882 वेंटिलेटर हैं।

अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य और परिवार कल्याण रोहित कुमार सिंह ने कहा कि “राजस्थान सरकार का ध्यान राज्य के लोगों की जिंदगी को बचाने पर विशेष तवज्जो दिया जा रहा है । कोविड-19 संकट से निपटने के लिए जांच और आक्रामक परीक्षण की हमारी रणनीति पर काम किया जा रहा है। प्रत्येक जिले में बुनियादी ढांचे की उपलब्धता के साथ सकारात्मक कोविड मामलों पर नजर रखी जा रही  हैं। अनुमान और एल्गोरिदम पर गहन अध्ययन के बाद, हम भविष्य की स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। यह संतोष की बात है कि पिछले 10 दिनों से राज्य में सक्रिय मामले 3000 से नीचे हैं, जो कि बहुत राज्य के लिए अच्छी खबर हैं। हालांकि, हम सतर्क हैं, क्योंकि कोविड की स्थिति राज्य में घटती बढ़ती रहती है,

सरकार ने राज्य में संक्रमण से लड़ने के लिए सुविधाएं बढ़ाने की कोशिश में दिन रात एक कर रही हैं। राजस्थान सरकार के निरोगी राजस्थान अभियान के तहत जरूरतमंदों को मुफ्त दवाइयां मुहैया कराई जा रही हैं और राज्य में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को भी नया रूप दिया जा रहा है। जिससे न केवल कोविड-19 परिदृश्य में रोगियों और अस्पतालों को सुविधा मिलेगी बल्कि बेड की संख्या में वृद्धि स्वास्थ्य प्रणाली में भी योगदान होगा । अब तक राजस्थान में कुल 14 जून तक 12,532 से अधिक सकारात्मक मामले हैं, जिनमें से लगभग 9431 रिकवर  हो चुके है। रिकवर  होकर डिस्चार्ज हो चुके लोगों की संख्या 9059 तक पहुंच गई है।

राजस्थान सरकार ने बेडों की उपलब्धता को देखते हुए  45,482 पीपीई किट और  100755 एन -95 मास्क, सैनिटाइज़र का स्टाक रखा हुआ है । साथ में, राज्य के सभी जिलों में निरंतर मॉनिटरिंग रखी जा रही है। अगर किसी जिले में सप्लाई की जरुरत पड़ते ही स्टाक वक्त पर मुहैया कराया जा रहा है । देखा जा रहा है कि, राजस्थान सरकार ने अब तक 5.84 लाख से अधिक कोविड परीक्षण किए हैं और 26.57 दिनों कोरोना डबलिंग रेट तक पहुंच गई है, जो कि कुछ दिनों पहले 19 थी । राजस्थान सतर्क है अधियान के तहत, राजस्थान की कोरोना रिकवरी रेट सर्वाधिक 75.26 प्रतिशत है ।

26031 टीम के सदस्य  निरंतर मॉनिटरिंग  चल रही है और तो और राज्य भर में लोगों के घर-घरों में स्क्रीनिंग के लिए पहुंच रहे हैं, मेडिकल स्टाफ ने लगभग 33,41,647 लोगों की जांच की है। 82,915 से अधिक लोगों को कोरोना वैश्विक महामारी से बचाव के लिए निरंतर जागरुक किया जा रहा है । दूसरी ओर, हेल्थ  सेंटर में स्वास्थ्य कर्मचारियों  ने ओपीडी में लगभग 1,25,768 लोगों की जांच की।

Leave A Reply

Your email address will not be published.