- Advertisement -

जो मेरी कमी मुझे बताते हैं वो मेरे शुभचिंतक हैं : पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद डॉ महेश शर्मा

टेन न्यूज नेटवर्क

नोएडा (22 जनवरी 2022): भाजपा सांसद और पूर्व मंत्री डॉ महेश शर्मा ने संसद टीवी से बात की प्रस्तुत है बातचीत के कुछ ख़ास अंश :

क्या आपको इस बात का डर होता है कि आपके सामने कोई व्यक्ति टीवी पर आपकी कोई कमी नहीं बता दे?

जबाब देते हुए डॉ शर्मा ने कहा कि ” इस मामले में मैं थोड़ा अलग सोचता हूँ, मैं समझता हूँ कि जब कोई मेरी कमी मुझे बताता है तो वो मेरा शुभचिंतक है।”

उनके द्वारा किए गए कार्यों की को लेकर जब उनसे पूछा गया
नोएडा कहा कि “यह मेरी कर्मभूमि है,और यँहा की जनता के आशीर्वाद के कारण ही मैं आज सांसद हूँ।हमने आजाद भारत का पहला बॉटेनिकल गार्डन नोएडा में बनवाया,पहले हम चंडीगढ़ और स्वीटजरलैंड की बात करते थे आज उन खूबसूरत शहरों में नोएडा ने अपनी जगह बनाई है। हमने क्षेत्र के विकास के लिए कई कार्य किए है, और नोएडा को वैश्विक स्तर का शहर निर्माण करने के दिशा में हम कार्य कर रहे हैं।

ज्ञात हो कि डॉ महेश शर्मा अपनी सौम्यता एवं कर्तव्यनिष्ठ होने के लिए जाने जाते हैं, उनके द्वारा नोएडा में किए गए कार्य नोएडा में स्पष्ट रूप से दिखते हैं।उन्होंने नोएडा में कई संरचनात्मक विकास कार्य किया है, सड़कें, फ़्लाइओवर, आदि का व्यापक स्तर पर विकास किया है।

सदन में 89 प्रतिशत उपस्थिति को लेकर जब प्रश्न पूछा गया तो उन्होंने कहा कि

“मैं तो चाहता हूँ कि हमारी उपस्थिति और अधिक बढ़े, साथ ही फ़िल्म देखने को लेकर उन्होंने कहा कि आज से 39 वर्ष पूर्व मैंने फ़िल्म देखा था।

जब उनसे कहा गया कि आपने जनता की मूलभूत आवश्यकताओं के मद्देनजर आपने जमीनी स्तर पर क्या बदलाव लेकर आए हैं,

उन्होंने कहा कि”मैं जो थोड़ा बहुत चिकित्सा के क्षेत्र में कार्य करने में सक्षम हूँ, मैंने वो किया है।और मैं इस प्रयास में हूँ कि एक एम्स की शाखा हो गौतमबुद्ध नगर में, यँहा से हमने संगठित अपराध को कम करने का काम किया है, हमने प्रयास किया है और हम चाहते हैं कि और सदा प्रयासरत हैं कि अधिक से अधिक उद्योग लगें, क्षेत्र में उद्योग को बढ़ावा मिल सके।

उन्होंने जिला में जो कार्य किया है, वह ऐतिहासिक है: पंकज सिंह

नोएडा से स्थानीय विधायक पंकज सिंह ने वर्तमान सांसद डॉ महेश शर्मा के व्यक्तित्व पर बात करते हुए कहा कि “एक सांसद और अभिभावक के रूप में मैंने उन्हें काफी करीब से देखा है,उन्होंने ज़िले में जो कार्य कर दिया है वह ऐतिहासिक है।”

हम नजर डालते हैं डॉ महेश शर्मा के जीवन ल एवं राजनीतिक यात्रा पर
30 सितंबर1959 में अलवर (राजस्थान) में एक सामान्य मध्यवर्गीय परिवार में जन्मे महेश शर्मा पेशे से चिकित्सक (जनरल फिजिशियन) हैं,और 2014 में पहले बार नोएडा से सांसद बनकर लोकसभा पंहुचे,वो भारत सरकार के संस्कृति, पर्यटन और नागरिक उड्डयन मन्त्रालय में स्वतन्त्र रूप से राज्य मन्त्री रहे हैं तथा पर्यावरण राज्य मंत्री पद भी सम्भाला है । उनकी पत्नी डॉ उमा शर्मा हैं, र्मा भी पेशे से चिकित्सक हैं।

डॉक्टर शर्मा के दो बच्चे हैं डॉक्टर पल्लवी और डॉक्टर कार्तिक।उनके पिता जी कैलाशचंद शर्मा जो पेशे से शिक्षक थे।डॉक्टर शर्मा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा राजस्थान के छोटे से गाँव में ली और उच्च शिक्षा हेतु वो दिल्ली चले आए उस के बाद कैलाश ग्रूप ओफ़ हॉस्पिटलस की स्थापना की ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.