नोएडा : वरिष्ठ सैन्य अधिकारी पर लगे आरोपों को साथियों ने बताया बेबुनियाद, पुलिस ने साधी चुप्पी

184

नॉएडा : एक पूर्व सेना सैन्य अधिकारी पर SC,ST एक्ट व् अपहरण , छेड़छाड़ अन्य जघन्य धाराओ लगाने व् उनके साथ मारपीट करने का मामला अब और ज्यादा गरमाता जा रहा है। इसी घटना को गंभीरता से लेते हुए , आज सेक्टर 27 के आरडब्लूए के सभागार में एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया जिसमे पूर्व थल सेना सैन्य अधिकारी 76 वर्षीय कर्नल वीरेन्द्र प्रताप सिंह चौहान पर लगाए गए आरोपों को झूठा करार दिया और पुलिस उनके साथ बहुत जयादा मानसिक तौर से परेशान कर रही है और कर्नल वीरेन्द्र प्रताप सिंह चौहान को किसी से बात नहीं नहीं दी जा रही है।

प्रेसवार्ता के दौरान पूर्व सैन्य सेनिको ने कहा की पुलिस प्रशासन हमारे अधिकारियो के साथ काफी बुरा बर्ताव कर रहा है। सेक्टर 20 थाने की पुलिस उनको सेक्टर 20 थाने ले गयी तथा उनका मोबाइल छीनकर उनको किसी से भी बात नहीं करने दी गयी ! सेक्टर 20 के SHO मनीष सक्सेना व CO-1 अनिल कुमार ने खुद सारी झूठी धाराएँ लगाकर तहरीर स्वयं लिखवाई ! बाद में सेक्टर 20 थाने की पुलिस कर्नल वीरेन्द्र प्रताप सिंह चौहान के घर गयी तथा घर से उनके घरेलू सहायक ‘राजीव’ व फ़ौज में भर्ती को इच्छुक दो अभियार्थी ‘विजय’ एवं ‘त्रिपाठी’ जो कि उनसे मिलने गोरखपुर से आये हुये थे और जिनका दूर से दूर तक इस घटना से कोई भी सरोकार नहीं था इन तीनो पर भी SC,ST एक्ट व् अपहरण , छेड़छाड़ अन्य जघन्य धाराएँ लगाकर कर्नल वीरेन्द्र प्रताप सिंह चौहान के साथ जेल भेज दिया ! आगे बताया कि हम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ जी से मांग करते है. कि इस सम्पूर्ण घटना की न्यायिक जांच कराई जाये, साथ ही कर्नल वीरेन्द्र प्रताप सिंह चौहान , उनके घरेलू सहायक ‘राजीव’ व् अन्य ‘विजय’ , त्रिपाठी पर लगाई गयी SC & ST एक्ट व् अपहरण , छेड़छाड़ अन्य सारी झूठी धराये हटाई जाएँ तथा तुरंत रिहा किया जाय, हरीश चन्द्र ADM मुजफ्फ़र नगर घटना के समय नोएडा में क्या कर रहे थे जबकी उनकी ड्यूटी मुजफ्फरनगर में थी इसकी गहन जांच की जाय,
हरीश चन्द्र के खिलाफ महगे सेक्टर में फ्लैट खरीदने व् कराये गए महगे निर्माण को लेकर आय से अधिक संपत्ति की जांच की जाए। और पुलिस पर सख्त कारवाई करते हुए सेक्टर 20 थाने के थानेदार मनीष सक्सेना , CO-1 अनिल कुमार तथा संलिप्त पुलिस की CCTV की फुटेज व् अन्य सबूत होने होने बाबजूद बगैर जांच की जाये।मामला सामने आने के बाद पुलिस ने जांच की बात की थी, हालाँकि आज लगाए आरोपों पर जब पुलिस का पक्ष जानने की कोशिश की गई तो एसपी सिटी ने इस विषय पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया

Loading...

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.