डीडीआरडब्लयूए के अध्यक्ष एन.पी. सिंह से ‘फेस टु फेस’ कार्यक्रम में लाॅकडाउन में आरडब्लयूए के सहयोग पर हुई चर्चा

Abhishek Sharma

0 214

उत्तर प्रदेश के जिला गौतमबुद्ध नगर में कोरोना का कहर जारी है। अब तक तक 735 मरीज कोरोना से संक्रमित मिल चुके है। जिसको लेकर जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, विधायक, सांसद समेत आरडब्लयूए अपनी नज़र बनाए हुए है। वही इस बडे आंकडे में गिरावट लाने को लेकर सभी मंथन कर रहे है।

वही कोरोना महामारी के इस संकट भरे दौर में सामाजिक संगठन एवं आरडब्ल्यूए ने काफी महत्वपूर्ण रोल अदा किया है। लॉकडाउन के समय में गरीब लोगों की सामाजिक संगठनों ने भरपूर मदद की है। सामाजिक संगठन एवं आरडब्लयूए कोरोना वाॅरियर्स के रूप में उभर कर सामने आए हैं।

लॉकडाउन के संकट भरे दौर में टेन न्यूज़ नेटवर्क वेबिनार के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रहा है। साथ ही लोगों के मन में चल रहे सवालों के जवाब विशेषज्ञों द्वारा दिए जा रहे हैं। आपको बता दे कि टेन न्यूज़ नेटवर्क ने “फेस 2 फेस” कार्यक्रम शुरू किया है , जो टेन न्यूज़ नेटवर्क के यूट्यूब और फेसबुक पर लाइव किया जाता है।

आज के “फेस 2 फेस” कार्यक्रम में गौतम बुद्ध नगर की डिस्ट्रिक्ट डेपलपमेंट रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (DDRWA) के अध्यक्ष एवं समेजसेवी एन.पी सिंह एवं संस्था के सदस्य व नोएडा सेक्टर 51 के महासचिव संजीव कुमार ने हिस्सा लिया। साथ ही इस कार्यक्रम के माध्यम से लोगों के सवालों के जवाब भी दिए। वही इस कार्यक्रम का संचालन

पेश हैं कार्यक्रम के मुख्य अंश

डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (DDRWA) संस्था का उद्देश्य

एन.पी सिंह ने बताया कि उनकी संस्था जिले की सभी आरडब्लयूए का सहयोग करती है और जिले में जो भी आरडब्लूए किसी भी समस्या से जूझती है तो उसका समाधान करने के लिए डीडीआरडब्लयूए का गठन किया गया है। पूरे गौतम बुद्ध नगर जिले में कई सौ की संख्या में आरडब्लूए हैं, उन सब की बहुत सारी समस्याएं हैं। कभी-कभी शासन से सहयोग मिलता है, कभी नहीं मिल पाता है।

बीते दिन भी एक बहुत बड़ी मीटिंग डीडीआरडब्ल्यूए ने आयोजित की है। जिसमें गौतम बुद्ध नगर के पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह और तीनों डीसीपी मौजूद रहे। इस बैठक में सभी समस्याओं पर चर्चा की गई और हमें कमिश्नर साहब ने पूरा आश्वासन दिया कि वह आरडब्लूए की सभी समस्याओं का समाधान कराएंगे। उससे पहले बिजली विभाग के हेड, अग्निशमन विभाग के डायरेक्टर जनरल से चर्चा हुई। हमेशा डीडी आरडब्लूए नोएडा की जनता एवं आरडब्लूए की समस्या के समाधान के लिए अग्रणी रहती है। हमेशा शासन प्रशासन के सहयोग के साथ जनता के विकास का कार्य कराते रहते हैं। हमारा उद्देश्य एक ही है कि नोएडा क्षेत्र की जनता की समस्या का समाधान हो और नोएडा क्षेत्र विकास के मामले में नंबर वन बने।

संस्था की अचीवमेंट

एनपी सिंह ने कहा की यह संस्था तो हाल ही में बनी है लेकिन इससे पहले फेडरेशन ऑफ नोएडा रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन (FONRWA) में रह कर यहां की कई बड़ी समस्याओं का समाधान कराया है। इसमें सबसे बड़ा अचीवमेंट डीएनडी को टोल फ्री कराना रहा। इस मामले में हम इलाहाबाद हाईकोर्ट से केस जीत कर आए, जो कि हमारे लिए बहुत बड़ा अचीवमेंट रहा। यह पूरे जिले के लिए एक बहुत बड़ा तोहफा है।

उनहोंने कहा कि इस संस्था के सदस्यों ने इस बड़े अचीवमेंट को प्राप्त करने में दिन-रात मेहनत की। उसके बाद नोएडा के लिए सड़कों, नालियों, पार्कों, पोल्यूशन, बिजली को लेकर कोई भी समस्या हो तो उसमें हम लड़ाई लड़ते आए हैं। जब मार्च में कोरोना फैलना शुरू हुआ था तो उस वक्त लोगों को बहुत सारी दिक्कतें आई थी। गरीबों के पास दो वक्त का खाना नहीं था। उस वक्त में हमारी संस्था के लोग आगे आए और गरीबों को खाना एवं सूखा राशन वितरित किया। लोगों को आर्थिक मदद भी दी है।

उनका कहना है कि हमारी संस्था में वह लोग काम करते हैं जो खुद की जेब से पैसा लगाकर नोएडा के विकास में अपना सहयोग देते हैं। उन्होंने कहा कि मयूर विहार से लेकर नोएडा महामाया फ्लाईओवर तक एक ब्रिज बनने जा रहा था, जिसमें अटकले यहां रही थी। इस दौरान हमारी संस्था ने यहां के जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की थी और इस ब्रिज को पास कराया था। हमारे लोगों ने बहुत सी लड़ाई लड़कर नोएडा को आज इस मुकाम तक पहुंचाया है।

कोरोना महामारी के दौर में संस्था को किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा

एन.पी सिंह का कहना है कि कोरोना महामारी अचानक से पूरे विश्व पर एक आपदा आई है। इसका किसी को भी आभास नहीं था, लोग इसके लिए पहले से तैयार नहीं थे। जिस वक्त लॉकडाउन हुआ, हर एक आदमी अपने घर पर बैठ गया, लोगों के कारोबार बंद हो गए और यहां से जनता लाखों की संख्या में पलायन कर गई। बहुत सारे उद्योग अगले 6 महीने के लिए बंद हो चुके हैं। बहुत से लोग इस दौरान आर्थिक संकट से उबर नहीं पाएंगे। लेकिन हमारे नोएडा के लोगों एवं आरडब्लयूए के लोगों ने हमेशा शासन प्रशासन के साथ मिलकर कंधे से कंधा मिलाकर काम किया। हमारी संस्था के लोगों ने सांसद, विधायक खाना बांटने वाली टीम के साथ मिलकर काफी मेहनत की है।आज भी हमारे लोग काम कर रहे हैं और इस आपदा की घड़ी में हमने हिम्मत नहीं हारी है। जिन क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा रहा है, वहां हमारी टीम के लोग प्रशासन और पुलिस के साथ मिलकर लोगों को सारी सुविधाएं उपलब्ध कराते हैं। सारे गेट बंद करके लोगों को सुरक्षा प्रदान की जा रही है, बाहर के लोगों की एंट्री पर पाबंदी लगा दी है। लेकिन आवश्यक वस्तुएं डिलीवर हो जाएं यह सुनिश्चित कराते हैं।

संस्था के फ्यूचर प्लान

एन.पी सिंह ने आगे कहा कि गौतम बुद्ध नगर आज के समय में बहुत बड़ा अचीवमेंट हासिल करने जा रहा है, यहां जेवर में दुनिया का पांचवा सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनने जा रहा है श। इस जिले में इतना बड़ा एयरपोर्ट बनने जा रहा है जिससे क्षेत्र को नई उपलब्धियां हासिल होंगी। एस एयरपोर्ट के यहां बनने में सबसे महत्वपूर्ण योगदान यहां के किसानों का रहा है, जिन्होंने अपनी मातृभूमि को इस एयरपोर्ट के लिए कुर्बान कर दिया।

वहीं उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य भविष्य में सरकार, शासन, जिला प्रशासन के साथ मिलकर लगातार यहां की समस्याओं को समाधान कराना और गौतम बुद्ध नगर को देश का नंबर वन शहर बनाने का है। इस विजन के साथ हम लगातार कार्य करते रहेंगे।

वही कार्यक्रम में संजीव कुमार ने कहा की डीडीआरडब्लूए जो संस्दा है, यह जिले की सभी संस्थाओं को मिलाकर एक ब्रिज की तरह काम करती है। शहर के अंदर बहुत सारी समस्याएं होती थी। पहले सभी आरडब्लूए अकेले अपनी समस्याओं का समाधान खुद करती थी। अब जब डीडीआरडब्ल्यूए में शहर की सभी संस्थाएं मिली हुई हैं, तो उससे आरडब्लूए की आवाज को और मजबूती से उठाते हैं। बीते दिनों में हमने कई सारी बैठक आयोजित की हैं। उनमें सभी संस्थाओं को साथ लिया और सभी की समस्याएं अधिकारियों के सामने सखी गई। हमारा उद्देश्य है कि शहरी, ग्रामीण, सोसाइटी, सेक्टर के प्रतिनिधि साथ मिलकर काम करें और बड़े स्तर पर अधिकारियों के सामने अपना पक्ष रख समस्या का समाधान करा सकें।

संजीव कुमार ने आगे कहा कि लॉकडाउन के इस दौर में डीडीआरडब्लयूए संस्था एक नई पहल लेकर आई, जिसमें हमने पहली मीटिंग नोएडा के विधायक पंकज सिंह के साथ की और यह मीटिंग ऑनलाइन हुई। इसके माध्यम से हमने लोगों को एक मैसेज पास किया कि बिना गैदरिंग के घर बैठे लोग अपनी बातें अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के सामने रख सकते हैं। इसके बाद जिले में आॅनलाइन बैठकों का दौर चला।

Leave A Reply

Your email address will not be published.