BJP से पूर्व विधायक माया शंकर पर यौन शोषण करने का आरोप।

Ten News Network

0 118

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व विधायक माया शंकर पाठक पर उनके कॉलेज में पढ़ने वाली एक लड़की ने यौन शोषण करने का आरोप लगाया है।

आपको बता दें कि माया शंकर के ही काॅलेज परिसर में छात्रा के परिजनों ने माया शंकर की पिटाई की और आरोप लगाया कि पूर्व विधायक ने छात्रा का यौन शोषण किया है।

रविवार 10 जनवरी को सोशल मीडिया पर उनके साथ हुई मारपीट की वीडियो वायरल होने लगी जिसमें पूर्व विधायक माया शंकर पाठक अपने कॉलेज के ऑफिस में बैठे हैं और 9वीं में पढ़ने वाली पीड़ित छात्रा के परिवार के करीब 10 सदस्य उनके ऑफिस में घुसते हैं।

इन 10 सदस्यों में से 2 लोग लड़की के साथ गलत हरकत करने को लेकर उन्हें डांटते और पाठक से इस घटना का स्पष्टीकरण मांगते नज़र आ रहे हैं, जिसके उपरांत स्थानीय लोग छात्रा के परिजनों संग मिलकर पाठक की जमकर पिटाई कर डालते हैं।

कहा जा रहा है कि पिटाई के बाद पाठक ने सबसे माफी मांगी, जिसके कारण पीड़ित छात्रा के परिवार ने इस मामले की शिकायत पुलिस में नहीं की।
किंतु इस पूरी घटना के वीडियो वायरल होने पर पाठक का परिवार भी काफी आहत नजर आ रहा है।
जिस काॅलेज का यह वीडियो वायरल हो रसा है वो भगतुआ इलाके में है जिसे एमपी ग्रुप द्वारा संचालित किया जाता है पाठक इसके चेयरमेन हैं।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि चौबेपुर थाना प्रभारी एस.के. शुक्ला ने बताया कि इस संबंध में कोई भी एफआईआर दर्ज नहीं कराई गई है, लेकिन वीडियो के आधार पर पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है।

पूर्व विधायक माया शंकर पाठक ने इस पूरी घटना को उनकी छवि बिगाड़ने की राजनीतिक चाल बताई है।

पाठक ने एक नया वीडियो ज़ारी करते हुए उसमें कहा कि कथित घटना लगभग एक हफ्ते पूर्व की है, आरोपी छात्रा गणतंत्र दिवस पर भाषण देने की तैयारी कर रही थी,छात्रा ठीक से भाषण नहीं पढ़ पा रही थी, इसलिए मैने उसे डांटा और भगा दिया।

पाठक वीडियो में आगे बोले कि “यदि किसी छात्रा को डांटना अपराध है, तो मैं इसके लिए पूर्ण रूप से माफी मांगता हूं। उन्होंने आगे कहा कि मैंने ध्यान नहीं दिया कि लड़की का परिवार मुझसे वार्तालाप करते हुए वीडियो बी बना रहा है, यह एक राजनीतिक साजिश है,मेरे प्रतिद्वंदी आम जन मानस के बीच मेरी छवि खराब करना चाहते हैं जिसके लिए उन्होंने इसका सहारा लिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.