जनकल्याणकारी योजनाओं में ऋण स्वीकृत न करने वाली बैंक शाखाओं के प्रबन्धकों के विरूद्ध तत्काल कार्यवाही के निर्देश :डीएम

120

LOKESH GOSWAMI जनकल्याणकारी योजनाओं में ऋण स्वीकृत न करने वाली बैंक शाखाओं के प्रबन्धकों के विरूद्ध कार्यवाही के निर्देश :डीएम।आज जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने कलेक्टेªट  में लीड बैंक अधिकारी के सौजन्य से बैंकर्स डीएलआरसी की बैठक कि और बैंक अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुये जिला लीड बैंक आफिसर को कडे़ निर्देश  दियें कि जो बैंक शाखायें सरकार द्वारा संचालित योजनाओं में प्राथमिकता के साथ पात्र लाभार्थियों को आसानी एवं समयबद्धता के साथ ऋण उपलब्ध नहीं करा रही है साथ ही जिनका सीडी रेषो भी मानकों के अनुरूप नहीं है, तथा जिनके द्वारा लीड बैंक आफिसर को सूचना समय पर नहीं दी जा रही हैं उनको चिन्हित करते हुये दो दिनों के भीतर तत्काल प्रभाव से विस्तृत आख्या प्रस्तुत की जाये ताकि दोषी बैंक प्रबन्धकों के विरूद्ध उच्च स्तरीय कार्यवाही के लिये लिखा जा सकें। श्री एनपी  सिंह ने कहा कि विगत बैंकर्स की बैठकों में निरन्तर रूप से सभी बैंकों के कोर्डिनेटर्स को व्यापक निर्देश  देने के उपरान्त भी उनके द्वारा लगातार आदेशो  की अवहेलना की जा रही है और जिला लीड बैंक आफिसर के कार्यालय में बैंक षाखाओं के द्वारा समय पर निर्धारित सूचनायें उपलब्ध न कराने के कारण बैंकर्स के कार्यो की तथ्यात्मक समीक्षा एवं अनुश्रवण नहीं हो पा रहा है जिसके सम्बन्ध में जिलाधिकारी द्वारा कड़ा निर्णय लिया और जिला लीड बैंक अधिकारी को निर्देष देते हुये दोषी अधिकारियों की सूची तलब की है। आज की डीएलआरसी की बैठक में बैंक बार आकडे़ प्र्रस्तुत नहीं करने पर जिलाधिकारी द्वारा बैंक आफिसर्स के विरूद्ध कड़ी नाराजगी व्यक्त की और बैठक में विस्तृत समीक्षा नहीं की तथा आयोजित बैठक को स्थगित करते हुये सभी बैंक अधिकारियों को कड़ी हिदायत दी और कहा कि यदि भविष्य में सरकार द्वारा संचालित योजनाओं में जो बैंकर्स सहयोग नहीं करेगें, आरबीआई के दिषानिर्देषानुसार क्षेत्र के आर्थिक विकास में सहयोग नहीं किया जा रहा है उनके विरूद्ध और अधिक सख्ती के साथ कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी द्वारा जब इस बैठक की षुरूआत की गयी तो उन्होंनें जानना चाह कि बैंकों के द्वारा क्षेत्र के आर्थिक विकास को दृष्टिगत रखते हुये आरबीआई के गाईडलाइंस के सापेक्ष कितने बैंकों द्वारा आर्थिक विकास के प्राथमिकता वाले क्षेत्र में बैंकों द्वारा नवयुवकों को अपना कार्य आरम्भ करने के लिये ऋण उपलब्ध कराया गया है तो एक भी बैंक के अधिकारी द्वारा उन्हें सूचना नहीं दी गयी जिस पर जिलाधिकारी ने कड़ी आपत्ति जताई और सम्बन्धित बैंकों के रीजनल आफिसर्स को आगामी बैठक में उपस्थित होने के निर्देष जिला लीड बैंक अधिकारी को दिये। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी माखन लाल गुप्ता, जिला लीड बैंक अधिकारी एके सिंह, जिला विकास अधिकारी डा0 राम आसरे, उप निदेषक कृषि षेष नारायण दूबे, अन्य अधिकारी गण एवं बैंकर्स मौजूद थे

Comments are closed.