मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के स्कूलों का किया निरीक्षण , विद्यार्थियों से की मुलाकात

ROHIT SHARMA

0 219

नई दिल्ली :– द‍िल्‍ली के श‍िक्षामंत्री मनीष सिसोदिया दिल्ली के अलग अलग इलाकों के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में 10वीं/12वीं क्लास के स्टूडेंट्स से मुलाक़ात करने पहुंचे । इस दौरान मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोरोना का एक बुरा दौर सभी ने देखा और अब ज़िंदगी धीरे-धीरे पटरी पर लौट रही है।

 

 

इसी सिलसिले में बोर्ड परीक्षाओं से पहले 10वीं और 12वीं के लिए स्कूल खुले हैं. स्कूल वीरान थे, अब बच्चे क्लासरूम में लौट रहे हैं. स्कूल के बिल्डिंग, लैब्स इसलिए बने हैं ताकि बच्चे यहां पढ़कर भविष्य में वैज्ञानिक बनें।

 

ऑनलाइन क्लास की खामियों के सवाल पर मनीष सिसोदिया ने कहा, “ऑनलाइन क्लास से नुकसान को कम किया जा सकता है , लेकिन ऑनलाइन क्लास स्कूल की पढ़ाई की जगह नहीं ले सकती है।

 

 

टीचर्स का छात्रों से आमने सामने बात करने का असर होता है. इसलिए हमारी कोशिश थी कि स्टूडेंट्स क्लास में लौटे और अब जब वैक्सीन भी आ गयी है. हालांकि स्कूल तक पहुंचने में वैक्सीन को समय लगेगा लेकिन प्रोटोकॉल फॉलो करके बच्चों के प्रैक्टिकल करवा दिए तो भरोसा बढ़ने के साथ साथ हालात भी बदलेंगे।

 

 

मनीष सिसोदिया ने कहा, “दरअसल, बोर्ड के एग्जाम काफी देरी से होंगे, ऐसे में नर्सरी एडमिशन में भी देरी होगी लेकिन एडमिशन होगा. माता पिता की चिंता जायज है, हम भी डरे हुए थे. चिंतित थे कि अचानक स्कूल खोलें तो क्या होगा. बेहद खुशी है कि स्टूडेंट्स स्कूल आ रहे हैं।

 

 

इस बीच सिसोदिया ने एक स्टूडेंट्स से स्कूल आने के बारे में उनके अभिभावक की राय जानी. सिसोदिया ने कहा कि पेरेंट्स और स्टूडेंट्स को स्कूल के सिस्टम पर भरोसा आ रहा है, और इस भरोसे की हमें ज़रूरत थी. बच्चे अबतक घर पर थे, और अचानक इन्हें एग्जाम देने के लिए भेज देंते तो सभी स्टूडेंट्स के साथ अन्याय होता।

 

दिल्ली में 10वीं और 12वीं बोर्ड के रिजल्ट को बरकरार रखने की चुनौती के सवाल पर मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस बार स्कूल खोलना सबसे बड़ी चुनौती थी. रिजल्ट को लेकर मेरी तरफ से न स्टूडेंट्स पर और न टीचर्स पर कोई दवाब है.बच्चों का स्कूल आना हमारे लिए एक परीक्षा में पास हो जाना है, फिर आगे के बारे में सोचेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.