स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में नोएडा रहा विजेता सूची से बाहर, सामने आई ये वजहें!

0 392

नॉएडा : विश्व पटल पर व्यवसाय, उधोग , ट्रांसपोटेशन व् फैशन की दुनिया में अपनी पहचान बना चूका नॉएडा शहर ने काफी नाम किया है लेकिन अफ़सोस ये है कि राष्ट्रीय स्वछ्ता सर्वेक्षण के विजेता शहरों की सूचि से बहार हो गया है। नॉएडा में स्वछता को लेकर काफी योजनाए बनाई तो गए , लेकिन समय रहते हुए उन योजनाओ पर अमल नहीं किया गया , साथ ही इस जनपद की मैन वजह ये रही कि काफी सालो से लेकर आज तक कचरा निस्तारण की समस्या हल नहीं हो पायी। जिसका विरोध जनता के साथ साथ शहर के सामाजिक संस्थाए करती आ रही है। अधिकारी भीं देरी से अप्लाई करना इसकी वजह बता रहे है , प्राधिकरण ने दिसंबर-2017 में राष्ट्रीय स्वच्छा सर्वेक्षण के लिए आवेदन किया। विजेता सूची में शामिल होने के लिए कई प्रयास भी किए। जिसमें आरडब्ल्यूए को कंपोस्टिंग मशीन लगाने के लिए कहा। जिसमें मशीन की लागत का 75 प्रतिशत पैसा प्राधिकरण खुद वहन को तैयार था। इसके अलावा एक प्रदर्शनी भी लगाई गई। योजना फेल हो गई। कचरा सेंटरों पर ही कंपोस्ट करने की योजना बनाई। पहले से बन चुके डंपिंग ग्राउंड को साफ कर वहा पार्क विकसिक करने का प्रयास अब भी जारी है। लेकिन यह प्रयास प्राधिकरण को सफल नहीं बना सके।सेक्टर-54,76 व 137 में कचरा फेंका जाता था। जिसको लेकर शहरवासियों ने विरोध प्रदर्शन शुरू किया। कचरा फेंकना बंद हुआ और सेक्टर-123 में 25 एकड़ क्षेत्र में वेस्ट टू एनर्जी प्लांट नोटिफाइड किया गया। इसके विरोध में महीनों विरोध किया गया। केंद्रीय मंत्री ने भी आश्वासन दिया। सेक्टर-54 में भी उन्हीं के आदेश पर कचरा फेंका जाना बंद किया गया। लेकिन निर्देशों को ठेंगा दिखाते हुए वर्तमान में सेक्टर-54 में कचरा फेंका जा रहा है। आपको बतादे कि राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण की विजेता सूची में शामिल होने के लिए डोर टू डोर कचरा कलेक्शन, सूखे और गीले कचरे के विभाजन, डंपिंग यॉर्ड और वेस्ट टू एनर्जी प्लांट शामिल है। इन विषयों पर काम कर रहे शहरों को अंक दिए जाते है। शहर में यह सभी योजनाएं शुरूआती स्टेज पर है। लेकिन नॉएडा शहरवासियों में काफी उत्सुकता थी कि राष्ट्रीय स्वछ्ता सर्वेक्षण के विजेता सूचि में शहर का नाम आ जायेगा , लेकिन शहर के अंदर स्वछता के नाम पर काफी खामिया आज भी कायम है जिसका निस्तारण नहीं हो पा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.