दक्षिणी दिल्ली के सांसद रमेश विधूड़ी ने कहा – कोरोना महामारी में अरविंद केजरीवाल सिर्फ करते रहे राजनीती 

Rohit Sharma

0 114

नई दिल्ली :– दिल्ली में पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 73 मरीजों की मौत हो गई। वहीं, 1647 नए लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। 73 लोगों की मौत एक दिन में कोरोना से मौत का सर्वाधिक रिकॉर्ड है | दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 24 घण्टे के अंदर 1647 नए मामलों के साथ दिल्ली में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 42829 पहुंच गया है।

साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कोरोना के खिलाफ लड़ाई की कमान अपने हाथ में ले ली है। अब बीजेपी के नेताओं समेत कार्यकर्ताओं को उम्मीद है की अब दिल्ली में हालात सुधरेंगे |

इस लॉकडाउन में टेन न्यूज़ नेटवर्क वेबिनार के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रहा है , साथ ही लोगों के मन में चल रहे सवालों के जवाब विशेषज्ञों द्वारा दिए जा रहे हैं। आपको बता दे कि टेन न्यूज़ नेटवर्क ने “एक खास मुलाकात ” कार्यक्रम शुरू किया है , जो टेन न्यूज़ नेटवर्क के यूट्यूब और फेसबुक पर लाइव किया जाता है।

वही “एक खास मुलाकात ” कार्यक्रम में दक्षिणी दिल्ली के सांसद रमेश बिधूड़ी ने हिस्सा लिया। साथ ही इस कार्यक्रम के माध्यम से जनता के सवालों का जवाब भी दिया। रमेश बिधूड़ी ने इस कार्यक्रम में एक विशेष बात पर जोर दिया , जिसमे उन्होंने कहा कि लोग शारीरिक दूरी बनाएं, मास्क और हाथ को साबुन से धोते रहे। साथ ही अनावश्यक रूप से घर के बाहर न निकले।

उन्होंने कहा की दुनिया के सबसे बड़ी कंट्री , स्वास्थ्य जगत में अपना नाम रोशन करने वाली कंट्री में आज वह स्थिति हो गई है कि इस महामारी से केसा बचा जाए। वह सब अंधेरे में है , यह बीमारी कैसे हुई , किस वायरस से हुई , वो वायरस कहां से आया , उस वायरस के लिए कोई वैक्सीन है , वह कब तक रहेगा,  कितने टेंपरेचर पर रहेगा। प्रिकॉशन के क्या तरीके हैं , ट्रीटमेंट क्या है,  इन सब में अभी हम सब लोग अंधेरे में हैं।

लॉकडाउन के जरिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत देश को बढ़े अनर्थ रास्ते से बचा लिया है। अगर लॉकडाउन नहीं किया जाता तो आज हमारे देश की स्थिति अन्य देशों की तरह होती। अन्‍य देशों की तुलना में हमारा देश बहुत बेहतर स्थिति में हैं।

जब तक वैज्ञानिक कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन नहीं बना लेते, तब तक हमें इसे बचने के लिए दो गज की दूरी बना कर रखनी होगी। मतलब संक्रमण से बचाव के लिए हमें सोशल डिस्‍टेंसिग के साथ टीका विकसित होने तक पालन करना होगा। देशों की तुलना में बहुत बेहतर है।

अपने अपने अनुभवों को शेयर कर कर हमने अपना प्रोटोकॉल बनाया , उस प्रोटोकॉल से हम इस महामारी से लड़ रहे हैं। धन्यवाद दें हम अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का, जिन्होंने सही समय पर फैसला लेकर देश को अनर्थ की तरफ ले जाने से बचा लिया। कल्पना करें अगर यही स्थिति 22 मार्च को होती जब पहला जनता कर्फ्यू लगा था , तो हमने हाथ धोने नहीं सीखे थे , हमें मास्क लगाने की आदत थी ही नहीं , डॉक्टरों और नर्सों को छोड़ दे तो।

उन्‍होंने कहा कि कोरोना जैसी महामारी जैसी विपत्ति हमारे देश पर आएगी, इसकी किसी को भनक ही नहीं थी। इसके बावजूद दिसंबर में चीन के वुहान में इस संक्रमण के फैलने के एक माह बाद ही भारत में पहला व्‍यक्ति संक्रमित मिला था। तभी मोदी सरकार इस संक्रमण को लेकर सतर्क हो गई थी। उस समय हमारे पास कोरोना की टेस्टिंग की एक मात्र लैब थी, लेकिन अब इस महामारी के पैर फैलाते ही इतने कम समय में अनेक लैब बन चुकी हैं।

हमारे पास मास्‍क बनाने की एक फैक्ट्री नहीं थी, लेकिन इतने दिनों में सैकड़ों की संख्‍या में देश में कंपनियां मास्‍क तैयार कर रही हैं। इस संकट में हम पीपीई, वेंटिलेटर आदि का निर्माण भी कर रहे हैं। आज के समय में हमारे पास एक लाख से ज्यादा वेंटिलेटर है, साथ ही कोरोना के मरीजों के लिए 3 लाख से ज्यादा बेड़ हमारे पास है। इस लॉकडाउन में हमारी सरकार अनेक तैयारियां कर चुकी है। अब देश के प्रधानमंत्री का ध्यान सिर्फ वैक्सीन पर है।

दक्षिणी दिल्ली के सांसद रमेश बिधूड़ी ने कहा कि दिल्ली की बात करे तो लोगों का हमेशा दुर्भाग्य रहा है क्योकि आम आदमी पार्टी सिर्फ बयानबाजी करते रहते  है , उन्होंने कुछ भी नहीं किया |

वह कहते है की मजदूरों को खाना खिलाया जा रहा है , लेकिन वास्विकता कुछ और थी | मजदूर भूखे रह रहे थे , जिसको लेकर हमारे बीजेपी पार्टी की राष्ट्रिय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सभी सांसदों , विधायक पार्षदों समेत मेयरों को निर्देश दिया गया की दिल्ली के सभी वार्डों में बीजेपी कार्यलय खोला जाए , उस कार्यलय में मजदूरों के लिए खाने की व्यवस्था समेत राशन वितरण होना चाहिए | वही इस निर्देश का पालन किया गया , जिसके बाद कोई भी मजदूर भूखा नहीं रहा |

रमेश बिधूड़ी ने कहा कि लॉकडाउन में हमने अपने जिले में 14500 लोगों को सूखा राशन वितरण किया गया , साथ ही सुबह और शाम मजदूरों को खाना खिलवाया गया , २1 स्थानों पर किचन शुरू करवाई गई , जिसमे लाखों रूपये खर्चा आ रहा था |

हमारे जिले में 39 वार्ड है , जिनमे सभी मजदूरों को परेशान नहीं होने दिया | सभी की सूची बनाई गई थी , जिसके बाद यह कार्य किया गया | लोगों के घर घर जाकर राशन दिया गया , मजदूरों को सुबह और शाम पका हुआ खाना दिया गया |

सांसद रमेश विधूड़ी ने कहा कि दक्षिणी दिल्ली के बहुत सी एनजीओ ने हमारा साथ दिया , लेकिन दिल्ली सरकार ने हमारा साथ नहीं दिया , साथ ही आम आदमी पार्टी के नेता फिल्ड में नजर भी नहीं आते थे |

10 लाख 51 हज़ार रूपये केंद्र सरकार द्वारा मजदूरों के खाते में पैसे डाले गए | साथ ही 70 हज़ार ऐसे उपभोक्ता थे , जिनको लॉकडाउन में फ्री गैस वितरण की गई | उन्होंने कहा की मेने अपने जिले के सभी लोगों को  केंद्र द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ दिलवाया है |

उन्होंने कहा की केजरीवाल में दिल्ली के सभी सांसदों से बात की थी , जिसमे मेने कहा था की दिल्ली के अंदर सभी स्टेडियम में बेड की व्यवस्था की जाए , अगर अस्पतालों में बेड फूल हो जाए तो ये स्टेडियम ही काम आएंगे , क्योकि एक स्टेडियम में 10 हज़ार से ज्यादा बेड आ सकते है |  केजरीवाल इस महामारी में भी राजनीति की है | केंद्र सरकार तैयार थी उनकी मदद करने के लिए , जो आज दिख भी रहा है |

Leave A Reply

Your email address will not be published.