भूमाफियाओं पर शिकंजा कसने के लिए लगेगा रासुका, जिला प्रसाशन ने तैयार की 50 नामों की सूची

Abhishek Sharma

92

हिंडन नदी के डूब क्षेत्र में अवैध रूप से प्लॉट काटने वाले भूमाफिया पर जिला प्रशासन रासुका लगाएगा। प्रशासन ने 50 भूमाफिया की सूची तैयार करके इनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के अंदर कार्रवाई शुरू की है। डीएम ने बताया कि गिरफ्तारी होने पर इनके खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की जाएगी।

डीएम बीएन सिंह ने बताया कि प्रशासन ने डूब क्षेत्र में प्लॉट काटने वाले 50 भूमाफिया की सूची तैयार की है। इनमें वह भूमाफिया शामिल है, जिन्होंने 100 से अधिक प्लॉट बेचे हैं। इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया गया है।

प्रशासन इनके खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई कर चुका है। पुलिस अब इनकी गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है। इनकी गिरफ्तारी होने पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) की कार्रवाई की जाएगी। जिससे कि आगे कोई भी माफिया इस तरह से भूमि पर कब्ज़ा ना करे।

प्रशासन ने डूब क्षेत्र में 2013 से 2018 के बीच में प्लॉट काटने वाले भूमाफिया की सूची तैयार की है। जिनमें 50 माफिया ने 14314 प्लॉट बेचे हैं। इनमें वह माफिया शामिल हैं, जिन्होंने 100 से ज्यादा प्लॉट बेचे हैं। इसके अलावा 100 से कम प्लॉट बेचने वालों की गिनती नहीं है। इनमें से कुछ माफिया ऐसे भी जिन्होंने 500 से अधिक प्लॉट बेचे हैं।

दिल्ली और हरियाणा के भूमाफिया ने आकर हिंडन नदी के डूब क्षेत्र में प्लॉटिंग की है। प्रशासन की सूची में शामिल जो नाम सामने आए हैं। उनमें अधिकांश दिल्ली-हरियाणा और आसपास के जिलों के रहने वाले माफिया हैं, जिसके चलते पुलिस को इनकी गिरफ्तारी के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है। अधिकांश लोग अपना पता बदल चुके हैं।

जिलाधिकारी बीएन सिंह और एसएसपी डॉ. अजयपाल शर्मा की संयुक्त कार्रवाई से अभी तक तीन लोगों पर रासुका लगाया जा चुका है। जिनमें दादरी में बिजली कर्मचारी को गोली मारने वाला आरोपी टीटू, खनन माफिया संजय मोमनाथल और भाजपा नेता हत्याकांड का मुख्य आरोपी अरुण यादव शामिल है। जिलाधिकारी बीएन सिंह का कहना है कि भूमाफिया पर कार्रवाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि कुछ और भूमाफिया की पहचान की जा रही है।

डीएम बीएन सिंह ने बताया कि शाहबेरी प्रकरण में आरोपी लोगों के खिलाफ भी रासुका लगाया जाएगा। इसके अलावा नोएडा में पकड़े गए फर्जी कॉल सेंटर चलाने वाले आरोपियों पर भी सख्त कार्रवाई होगी। इनके खिलाफ भी रासुका लगाया जाएगा। इसके अलावा राशन घोटाले के आरोपियों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होगी। जिसके लिए प्रशासन कार्रवाई में जुटा है।

यमुना और हिंडन नदी के डूब क्षेत्र में आने वाले बादौली बांगर, याकूतपुर, मोतीपुर, हैबतपुर, गढ़ी चौखंड़ी, ककराला, दलेलपुर, लखनावली, मोमनाथल, तिलवाड़ा, गढ़ी समस्तीपुर, ख्वासपुर, चोटपुर, गुर्जरपुर, गुलावली, घरबरा, यूसफपुर चकशाहबेरी, अलीवर्दीपुर आदि गांव शामिल हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.