एक्युरेट में दीक्षांत समारोह

0 111

GREATER NOIDA LOKESH GOSWAMI  AAA

दीक्षांत समारोह की श्रंखला में आज  एक्युरेट इंस्टीट्यूट आॅफ मैनेजमेंट एण्ड टैक्नोलाॅजी में तृतीय दीक्षंात समारोह ‘‘काॅनवोकेशन 2016 ’’ का आयोजन किया गया। समारोह का उद्देश्य एक्यूरेट एवं उत्तीर्ण छात्र/छात्राओं के बीच पारस्परिक संबंधों को दृ-सजय़ बनाना एवं प्रबन्धन शिक्षा को ब-सजयावा देना रहा है।कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि श्री शेखर दत्त सेवा निव्रत आई ए ऐस एवं पूर्व राज्यपाल छत्तीसगढ़ ने दीप प्रज्जवलन कर किया। छात्राओं ने सरस्वती वन्दना प्रस्तुत की। दीक्षांत समारोह में पी0जी0डी0एम0 बैच 2012-ंउचय14 एवं 2013-ंउचय15 के कुल 315 , छात्र-ंउचयछात्राआंे के उत्तीर्ण होने पर पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा दिया गया। मुख्य अतिथि द्वारा मेधावी छात्र-ंउचयछात्राओं को पदक एवं प्रमाण-ंउचयपत्र दिये गये। पी0जी0डी0एम0 2012.14 के मिथिलेश कुमार मोर्या को स्वर्ण पदक एवं पीयूष को रजत पदक तथा रोमा गुप्ता को कांस्य पदक दिये गये। बैच 2013.15 के नेहा जैसवाल एवं कारण वालिया को स्वर्ण पदक, प्रस्तुत मौर्या को रजत तथा दीपा थापा को कांस्य पदक दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि श्री शेखर दत्त ; छतीसगढ़ के पूर्व राज्यपाल एवं रिटाइर आई ए ऐस द्ध ने छत्र. छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि अपना सर्व श्रेष्ठ दीजिये कामयाबी अपना रास्ता खुद चुनेगी।श्री दत्त ने कहा कि जिंदगी एक परीक्षा है जिसमे हर दिन पास होना होता है।हर दिन हर रात जिंदगी मे रोचक है यदि आपका ड्राष्टिकोण सकारात्मक है।मुख्य अतिथि ने व्याप्त शिक्षा पर बोलते हुए कहा कि डिस्कवरी व इनोवेशन ने एडुकेशन के प्रारूप को बदला है। सभी को बदलते प्रारूप के अनुरूप ढालना होगा॰ छत्र. छात्राओं को से रूबरू होते हुए उन्होने कहा अलूमनी किसी भी संस्था के विकास मे अति महत्वपूर्ण योगदान देते है।मुख्य अतिथि ने भविष्य के बारे मे बताते हुए कहा कि आने वाला दौर बायो टेक्नालजी ;बी टी द्ध का होगा जिसको उन्होने भारत टोमोरो ;बी टी द्ध का नाम भी दिया। उन्होने बताया कि भारत मे हर तरह कि क्लाइमेट कंडिशन्स है जिसकी वजह से बायो टेक्नालजी ;बी टी द्ध का विकास बहुत बड़े सभी छात्र-ंउचयछात्राओं ने दीक्षांत समारोह में सम्मलित होकर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि हम सभी को एक्यूरेट का छात्र-ंउचयछात्रा होने पर गर्व है। सभी छात्र एवं छात्राऐं राष्ट्रीय एवं अन्तरर्राष्ट्रीय कम्पनियों में उच्च पदों पर कार्यरत है।छात्र-ंउचयछात्राओं ने अपनी सफलता के पीछे अपने अध्यापकों एवं सी0सी0आर0 विभाग की सक्रिय भूमिका के लिए धन्यवाद दिया। संस्थान के चेयरमैन श्री सी0एल0 शर्मा ने छात्रों को संबोधित कर भारतीय राजनैतिक सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति को मजबूत करने की बात कही और प्रत्येक नागरिक को देश की प्रगति में भागीदार बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने सभी छात्र-ंउचयछात्राओ को रचनात्मक तरीकांे से कार्य करने को कहा। संस्थान की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने बदलते वाणिज्य परिवेश एवं इसमें उद्योग-ंउचयसंस्थान की सहभागिता के महत्व को बताया। उन्हांेने बताया कि अन्तरर्राष्ट्रीय रैकिंग के अनुसार कोई भी भारतीय विश्वविद्यालय टाॅप 200 में नही है और यह तभी संभव हो सकता है जबकि शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया भारतीय अर्थव्यवस्था कई मूल समस्याओं से जू-हजय रही है। जिसमें रूपये के मूल्य में गिरावट, महंगाई, भ्रष्टाचार आदि प्रमुख हैं इन समस्याओं से निजात पाने के लिए संस्थान के महानिदेशक द सरोज दत्ता ने युवा वर्ग की सहभागिता पर बल देते हुए कहा कि अगर युवाओं की दिशा ठीक होगी तो देश चहूमुखी विकास करेगा। संस्थान के कार्यकारी निदेशक डाॅ0 राजीव भारद्वाज ने इसी क्रम को आगे ब-सजयाते हुए सभी उत्तीर्ण छात्र-ंउचयछात्राओं का संस्थान में पुनः स्वागत किया। उन्होंने प्रशिक्षित मैनेर्जस को आज की जरूरत बताया और कहा कि युवा वर्ग ही समस्याओं से देश को निजात दिलाने में सहायक होगा। उन्होंने सेवा क्षेत्र के महत्व को बताया साथ ही उत्तीर्ण छात्र-ंउचयछात्राओं को उनके स्वप्न साकार होने पर
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री शेखर दत्त ने छात्र-ंउचयछात्राओं को डिप्लोमा एवं पुरस्कार वितरित किये एवं उनका उत्साहवर्धन किया। उन्होंने उनको जिंदगी जीने के तरीके एवं सफलता के सूत्र बताये एवं अपने अनुभवों को छात्रों के साथ सा-हजया किया एवं उनसे एक जिम्मेदार नागरिक बनने की अपील की। जिन समस्याओं से हमारी संस्कृति जू-हजय रही है और जिन विकारों से ग्रसित है उन्हें नियन्त्रण करने के उपायों को बताया। कार्यक्रम का संचालन प्रो0 रजनी खोसला ने किया। पी0जी0पी0 प्रमुख प्रोफ प्रदीप वर्मा व प्रोफ रिपुदमन गौड़ ने सभी कमेटी मैम्बर्स को उनकी सहभागिता एवं समारोह के सफल संचालन के लिए धन्यवाद दिया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.