युमना प्रदूषित होने पर बीजेपी ने केजरीवाल पर साधा निशाना , कहा – 26 वादों में से एक भी नही हुआ पूरा

ROHIT SHARMA

0 188

नई दिल्ली :– दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर एक बार फिर बीजेपी ने आप पार्टी के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा । उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान दिल्ली की हवा व पानी साफ हो गए था, परन्तु आज वायु व जल प्रदूषण के कारण दिल्ली की स्थिति बहुत ख़राब हो गयी है, लोगों को स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

 

फिर भी, केजरीवाल सरकार इस खतरे से दिल्ली के लोगों को बचाने व राहत देने के लिए कुछ नहीं कर रही है। यमुना नदी में बढ़ते प्रदूषण और अमोनिया का स्तर 3 पीपीएम तक पहुंचने के कारण आज सोनिया विहार और भागीरथी जल शोधन संयंत्र में पानी को साफ करने का कार्य प्रतिकूल रूप से प्रभावित है।

 

इनकी वजह से पूर्वी, उत्तर-पूर्वी और दक्षिणी दिल्ली में पानी की सप्लाई बुरी तरह से प्रभावित हो गयी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में फैक्ट्री 3 महीने पहले ही खुल गयी थी , लेकिन उसके बाद भी यमुना का पानी साफ रहा। आज यमुना दिल्ली की फैक्ट्रियों के पानी से दूषित हुई है।

 

 

केजरीवाल सरकार के जल बोर्ड व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को बताना चाहिए कि ऐसा क्यों हुआ? और वह इस समस्या से निपटने के लिए क्या कर रहे हैं? जब केजरीवाल को पता था की यमुना दूषित हो रही है तो उन्होंने नए प्लांट क्यों नहीं लगाए? प्रदूषण रोकने के प्रबंध क्यों नहीं किये? नालों को यमुना में जाने से क्यों नहीं रोका?

 

उनकी विफलता के कारण आज इसी पानी से कई जगह खेती होती है और लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ हो रहा है। केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार को 2 साल पहले 1000 इलेक्ट्रिक बसों की अनुमति दी थी, लेकिन अभी तक एक भी बस नहीं खरीदी गई। 2018 में वह ग्रीन बजट लाए थे, 26 घोषणाएं हुई लेकिन ज्यादातर घोषणा आज तक लागू नहीं हुई, न एंटी स्मॉग टावर लगाए गए। 2 साल से क्या कर रहे थे केजरीवाल ?

 

आपको बता दें कि यमुना के पानी में अमोनिया का स्तर बढ़ने की वजह से बृहस्पतिवार शाम से राजधानी दिल्ली के कई इलाकों में पानी की किल्लत हो गई है। आज सुबह पानी आया भी तो बेहद कम, जिसके चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं, जिन इलाकों में पानी आपूर्ति प्रभावित है, वहीं के लोगों से दिल्ली जल बोर्ड ने अपील की है कि वे पानी को पीने या खाना बनाने के काम में इस्तेमाल नहीं करें। जलबोर्ड का कहना है कि पानी में अमोनिया की मात्रा है, जिससे शरीर को नुकसान पहुंच सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.