भारतीय किसान यूनियन भानु ने जंतर-मंतर पर किया प्रदर्शन, रखी अपनी मांगें

Abhishek Sharma (Photo-Video) Lokesh Goswami Tennews New Delhi :

84

नई दिल्ली स्थित जंतर-मंतर पर आज भारतीय किसान यूनियन भानू की ओर से धरना प्रदर्शन किया गया। जिसमें उन्होंने अपनी मांगों के पूरा होने की बात रखी। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में किसान जंतर मंतर पर उपस्थित रहे और सरकार विरोधी नारे लगाकर अपना विरोध जाहिर किया।\



भारतीय किसान यूनियन भानू के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर दुष्यंत सिंह ने टेन न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि आज यहां पर कई प्रदेशों व जिलों के सैकड़ों किसान अपनी मांगों को लेकर पहुंचे हैं। उन्होंने बताया कि हमारे किसानों की मांग है कि किसान आयोग का गठन हो जिसमें किसान ही सदस्य हो और किसान ही उसके अध्यक्ष बनने चाहिए। उनका कहना है कि एक किसान ही दूसरे किसानों के बारे में सोच सकता है और उनका भला कर सकता है अतः किसान आयोग ही देश के किसानों की फसल का दाम तय करेगा सरकार नहीं।

उन्होंने आगे कहा कि 72 साल की सरकारों की किसान विरोधी नीतियों के कारण देश का संपूर्ण किसान तरह-तरह के कर्ज से ग्रसित होकर आत्महत्या करता है किसानों के पक्ष में बैंकों के कर्ज को माफ करने की घोषणा की जाए।

उन्होंने अपनी मांगे रखते हुए आगे बताया कि 60 साल उम्र पूरी होने के बाद किसानों को ₹10 हजार प्रति माह दी जाए जिससे कि उनका जीवन यापन हो सके। कई बार देखा जाता है कि दुर्घटना में किसान अपनी जान गँवा देते हैं, ऐसे किसानों को 1 करोड़ रुपए उसकी पत्नी और बच्चों को जीवन यापन के लिए दी जाए।

दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि देश के किसी भी प्रांत में पुलिस के सिपाही या अधिकारी शहीद हो तो उनके परिवार को जीवन यापन करने के लिए 2 करोड रुपए देने की घोषणा की जाए वहीं उन्होंने सेना के जवानों व अधिकारियों के लिए कहा कि यह लोग देश की रक्षा में लगे रहते हैं उनके शहीद हो जाने पर उनकी पत्नियों और बच्चों को 5 करोड रुपए दिए जाए।

उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि देश में किसानों का जो बकाया है उसका भुगतान 10 दिनों में किया जाए। उन्होंने आगे कहा कि हर प्रदेश में टूटी हुई सड़कों को ठीक करने की व्यवस्था की जाए जिससे लोगों को सहूलियत हो सके । प्रत्येक प्रदेश में नहर रजवाहा माइनर की सफाई कराकर रोस्टरों के मुताबिक पानी चलाया जाए और देश के किसानों को 24 घंटे बिजली की सुविधा प्रदान की जाए।

उन्होंने आगे अपनी मांग बताते हुए कहा कि खारे पानी के क्षेत्रों में पेयजल की व्यवस्था की जाए और यमुना को हथिनी कुंड बैराज से मुक्त किया जाए और यमुना का 50 फ़ीसदी पानी बहने दिया जाए तथा शहरों के मल मूत्र के नाले बंद किए जाएं।

आगे उन्होंने कहा कि खुले शौचालय से जमीन प्रदूषित हो जाएगी इसलिए शौचालय पक्के टैंक बनवाकर बनवाए जाएं। गोवंश का गोबर ₹25 किलो खरीदा जाए तथा उसके द्वारा कंपोस्ट खाद खेती के काम में लिया जाए इससे बहुत ही फायदे होंगे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.