मानसून की दस्तक के बीच नोएडा में नालियों की सफाई के बाद अब तक नहीं उठा मलबा

ROHIT SHARMA / JITENDER PAL- TEN NEWS

0 120

(09/07/2019) मानसून की पहली बारिश के साथ ही नालियों की गंदगी को साफ करने की जिम्मेदारी प्राधिकरण के सिर आ जाती है, जिसको लेकर नोएडा प्राधिकरण हर साल करोडों रुपये का टेंडर निकालती है , जिससे बड़े नाले साफ हो सके , साथ ही नोएडा में जलभराव की समस्या उत्पन्न न हो सके ।



लेकिन यह जिम्मेदारी प्रत्येक बारिश के मौसम में महज खानापूर्ति के तहत पूरी कर दी जाती है। इसका प्रमाण नालियों की सफाई के बाद देखने को मिलता है। जब उससे निकलने वाली गाद और मलवे को वहीं छोड़ दिया जाता है। गाद लंबे समय तक नालियों के किनारे पड़ी रहती है। बारिश आते ही यह गाद फिर से नालियों में समा जाती है।

नोएडा सेक्टर-21 से लेकर नोएडा स्टेडियम की लाल बत्ती और सेक्टर-31 स्थित निठारी गांव की लालबत्ती और सेक्टर 10 के पास ऐसा ही नजारा देखने को मिला। यहां करीब दो दिन पहले नालियों की सफाई कर उसके मलबे को वहीं छोड़ दिया गया है। इस कारण लोगों को प्रतिदिन परेशानी होती है।

दरअसल नोएडा शहर के विभिन्न सेक्टरों में नाले-नालियों से कचरा और गाद निकालने का कोई बेहतर प्रबंध नहीं किया गया है। ऐसे में हल्की बारिश के बाद ही बाहर निकाला गया कचरा फिर से उसी नाले में चला जाता है। प्राधिकरण के द्वारा दिए गए टेंडरों के ठेकेदारों की लापरवाही के कारण बारिश में लोगों को इन्हीं कारणों से जलभराव का सामना करना पड़ता है।

आपको बता दे कि नालियों की सफाई के बाद उसकी गाद और मलबे को सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है। सूखने के बाद ही उसे उठाया जाता है। ऐसे में यदि इस प्रक्रिया में एक हफ्ते या 15 दिनों के अंतराल के बीच बारिश हो जाए तो सारा मलबा वापस उसी नाले में चला जाता है। जिससे समस्या जस की तस बनी रहती है। कुछ ऐसे ही हालात शहर के सभी सेक्टरों में बनी नालियों के है। जहां कई दिनों से पड़ी गंदगी की बदबू से लोग परेशान हैं। उसे साफ करने का कार्य अभी तक नहीं हो सका है।

सेक्टर-21 से लेकर नोएडा स्टेडियम की मेन रोड , सेक्टर-31 स्थित निठारी गांव और सेक्टर 10 में नालियों की सफाई के बाद मलवा पड़ा होने के चलते वहां से गुजरने वाले सैकड़ों लोगों को इस गंदगी से होकर गुजरने को मजबूर होना पड़ रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.