पेट्रोल-डीजल पर बढे दामों को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ किया हल्लाबोल

Abhishek Sharma (Photo-Video) Lokesh Goswami Tennews New Delhi :

67

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में बजट पेश कर दिया है और इसको लेकर तमाम तरह की प्रतिक्रिया आ रही हैं। आम लोगों की बजट से ढेरों उम्मीदें थीं और ऐसे में आम जनता जानना चाहती है कि बजट के बाद उनकी जेब पर क्या असर पड़ रहा है। आपकी आमदनी कुछ भी हो आपको डीजल और पेट्रोल पर ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ेंगे।



पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी और सेस बढ़ाए गए हैं। इस तरह डीजल और पेट्रोल दो-दो रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है। इसको लेकर कांग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं ने मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यालय से बीजेपी कार्यालय तक पैदल मार्च किया। पैदल मार्च का प्रतिनिधित्व कांग्रेस की नेत्री शर्मिष्ठा मुखर्जी ने किया।

बीजेपी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस पार्टी की सैकड़ों महिला कार्यकर्ता शामिल हुई और मोदी सरकार विरोधी नारों के साथ पेट्रोल-डीजल के दामों में घटौतरी की मांग की। इस मौके पर महिला कार्यकर्ताओं को बीजपी दफ्तर पहुँचने से रोकने के लिए सैकड़ों महिला पुलिसकर्मी मौके पर तैनात रही और बैरिकेडिंग लगाकर उनको रोका गया।

कांग्रेस पार्टी की नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मोदी सरकार आम आदमी को लूटने-खसोटने में लगी हुई है। पहले बजट पेश किया गया उसमे गरीबों के लिए कोई योजना शुरू नहीं की गई ऊपर से सेस लगाकर पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा दिए हैं। तेलों के दाम बढ़ने से गरीबों की जेब पर सबसे अधिक भार पड़ेगा।

उनका कहना है कि मोदी सरकार लगातार अमीर लोगों को और अधिक अमीर बनाने में लगी हुई है , उसे गरीबों की कोई फ़िक्र ही नहीं है। देश की सत्ता पर काबिज सरकार हर वर्ग के लोगों को साथ लेकर चलती है लेकिन यहां पर ऐसा कुछ होता हुआ दिखाई नहीं पड़ रहा है। उनका कहना है कि मोदी और अमित शाह मिलकर देश को लूटने में लगे हुए हैं।

उनका कहना है कि मोदी सरकार ने जो पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी और सेस बढ़ाए गए हैं उसे वापिस लें जिससे की गरीब लोगों को राहत मिल सके, अन्यथा कांग्रेस पार्टी बड़े पैमाने पर धरना प्रदर्शन कर अपना विरोध जाहिर करेगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.