दिल्ली में कोरोना का कहर, 27 हज़ार के पार मरीजों की संख्या , 750 से ज्यादा लोगों की हुई मौत

Rohit Sharma

0 81

नई दिल्ली :– दिल्ली में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 27 हजार के पार हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हुए आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में यहां 1320 नए मरीज सामने आए , जिसके बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 27654 हो गई।

पिछले 24 घंटों में यहां 349 मरीज़ ठीक हुए हैं जिससे ठीक होने वालों का आंकड़ा 10,664 हो गया. पिछले चौबीस घंटों में यहां कोई मौत नहीं हुई लेकिन 25 मई से 5 जून के बीच 53 मौतों की लेट रिपोर्टिंग हुई जिसके बाद अब कुल मौत का आंकड़ा 708 से बढ़कर 761 हो गया है ।

दिल्ली में इस समय एक्टिव मरीजों की संख्या 16, 229 है। इसमें से 4225 मरीज कोविड अस्पतालों में हैं। इसमें से 176 मरीज आईसीयू में है। अभी दिल्ली के अस्पतालों में कोविड के इलाज के लिए कुल 8637 बेड है, इमसें से 4412 बेड खाली हैं।

इसी प्रकार कोविड हेल्थ सेंटर में कुल 285 बेड हैं, इसमें से 190 बेड पर मरीज हैं और यहां पर भी कुल 296 बेड खाली हैं। इसी तरह कोविड केयर सेंटर में कुल 5292 बेड हैं, यहां पर 1271 मरीज हैं और 4021 बेड खाली हैं। दिल्ली में अभी होम आइसोलेशन में कुल 11,267 मरीज हैं।

दिल्ली में अभी कुल 472 वेंटिलेटर बेड हैं, इमसें से 296 वेंटिलेटर खाली हैं। अभी तक दिल्ली में 2,46,873 सैंपल की जांच की जा चुकी है।

दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच दिल्ली कैबिनेट ने फैसला लिया है कि दिल्ली सरकार के और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का इलाज होगा जबकि केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी का इलाज होगा. अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इसी के साथ इसी के साथ दिल्ली से बाहर के सभी लोगों के लिए बॉर्डर खोल दिए जाएंगे. उन्होंने बताया कि दिल्ली में बढ़ते मामलों के चलते फैसले लिया गया है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के अस्पतालों में देश भर के लोगों के इलाज हो सकेंगे. अरविंद केजरीवाल के अनुसार दिल्ली में जून के आखिरी तक 15 हजार बेड की जरूरत होगी, जबकि हमारे पास सिर्फ 10 हजार बेड हैं. ऐसे में अस्पतालों को सबके लिए खोला जाना संभव नहीं होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.