नोएडा : कोरोना वायरस , जानेमाने सर्जन डॉ. वी. पी सिंह ने बताए बचाव के उपाय

ABHISHEK SHARMA

0 736

Noida : चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस का प्रकोप धीरे-धीरे दुनिया के कई देशों में फैल चुका है। हाल ही वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने कहा था कि बहुत क्लोजली रहने और एक-दूसरे के साथ चीजें शेयर करने से कोरोना वायरस के फैलने की संभावना को पूरी तरह नकारा नहीं जा सकता है।

हालांकि अब चीन की तरफ से इस बात की पुष्टि हो गई है कि यह वायरस ह्यूमन टु ह्यूमन ट्रांसफर होता है। वैज्ञानिकों की तरफ से कहा गया है कि यह आमतौर पर पशुओं में पाया जाने वाला वायरस है लेकिन अब यह मनुष्य से मनुष्य में भी संचारित हो रहा है।

भारत में भी कोरोना ने अपने पैर पसार दिए है। भारत  में मरीजों की संख्या 107 तक पहुँच चुकी है। कोरोना आखिर है क्या और यह किस तरह लोगों में फैलता है, इसको लेकर टेन न्यूज़ ने गौतमबुद्धनगर के जाने-माने सीनियर सर्जन डॉ वी. पी सिंह से ख़ास बातचीत की। पेश हैं उनसे बातचीत के मुख्य अंश -:

कोरोना वायरस क्या है?

जैसा कि आपने बताया कि यह एक वायरस है और यह श्वांस प्रक्रिया को प्रभावित करता है। जैसे  साधारण इनफ्लुएंजा होता है उसी की प्रजाति का यह वायरस है। इस वायरस से इतना ज्यादा डरने की जरूरत नहीं है। जिस प्रकार आमतौर पर जुकाम हो जाता है उसी की तरह यह बीमारी है और यह श्वास प्रक्रिया को प्रभावित करता है और उसी से इंसान की मृत्यु हो सकती है।

 

कोरोना वायरस फैलने के कारण व लक्षण क्या है?

जब कोई इंसान संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं, तो यह अधिकतर फैलता है। अगर कोरोना वायरस से संक्रमित इंसान ने खाँसा तो यह वायरस खांसी के जरिए बाहर आ जाता है और उस समय आसपास रहने वाले लोग इसके शिकार हो जाते हैं। क्योंकि श्वांस के माध्यम से यह बीमारी शरीर में प्रवेश करती है।

 

कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों को कैसे पहचाने?

बिना जांच के कोरोना वायरस पीड़ित व्यक्ति को पहचानना बेहद मुश्किल है। किसी को भी इसका संक्रमण होता है तो उसके लक्षण पहचानने के लिए ही कम से कम 2 से 10 दिन लग जाते हैं। कोरोना के लक्षण खांसी, जुकाम, सिरदर्द के जरिए पता चलते हैं तो इसलिए यह पहचानना बेहद मुश्किल है। क्योंकि सामान्य जुकाम भी होता है और कोरोना के वक्त भी उसी प्रकार का  जुकाम होता है। इस प्रकार की कोई भी समस्या हो तो घबराएं नहीं तुरंत आसपास के डॉक्टर को दिखाएं एवं जल्द से जल्द इसकी जांच कराएं।

 

कोरोना वायरस से बचाव के क्या उपाय हैं?

डॉक्टर बी पी सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर मीडिया ने काफी जल्द ही लोगों को इसके बारे में बता दिया। यह बेहद एक अच्छी पहल थी। क्योंकि मीडिया के जरिए ही लोगों को इस बीमारी का असली खतरा पता चला है। जिसके जरिए लोगों को पहले से ही सचेत हो गए। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना वायरस को दूसरी स्टेज पर रोकने का प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, इस पर यकीन करने का कोई कारण नहीं है कि ठंड का मौसम नए कोरोना वायरस या अन्य बीमारियों को मार सकता है। कोरोना से खुद को बचाने के लिए सबसे बेहतर तरीका अल्कोहल युक्त सैनीटाइजर या साबुन और पानी से हाथ को साफ करते रहना है।

 

नोएडा के चिकित्सकों की संस्था कोरोना के प्रति जागरूकता के लिए किस तरह  की पहल कर रही है?

उन्होंने कहा कि हाल ही में नोएडा में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की एक प्रेस कांफ्रेंस हुई थी। जिसमें जिले के सांसद डॉ महेश शर्मा ने भी हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि डॉक्टर इस बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक कर सकते हैं कि इससे कैसे बचे और इसे होने ही ना दें। ना चाहते हुए भी अगर यह आपको हो जाए तो इसका ट्रीटमेंट कर सकते हैं। लोगों को भ्रमित नहीं होना चाहिए कि कोरोना का कोई इलाज नहीं है। तो मैं आपको एक बात बता दूं कि जितनी भी वायरल बीमारी हैं,  उनका कोई इलाज नहीं है। ऐसे रोगों में हम सपोर्टिव ट्रीटमेंट देते हैं फिर वायरल के लिए डॉक्टर वैक्सीनेशन करते हैं। यही उपचार कोरोना वायरस में भी दिया जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.