जेनेसिस ग्लोबल स्कूल की वार्षिक शुल्क वृद्धि पै पेश की सफाई

Bt Ten News network

168

Greater Noida (12/4/2019) :

क्या आप स्कूल की वार्षिक शुल्क में बढ़ोतरी के मामले को स्पष्ट रूप से बताएँगे और क्या यह बढ़ोतरी जायज़ सीमा में है?

हाँ, उत्तर प्रदेश अध्यादेश के अनुसार यह बिलकुल जायज़ दायरे में है। जेनेसिस ग्लोबल स्कूल की वार्षिक शुल्क वृद्धि 7.5% से 8.5% के बीच है जोकि सरकारी दायरे में है। उत्तर प्रदेश  सेल्फ-फाइनेंसड इंडिपेंडेंट स्कूल (फीस का निर्धारण) अध्यादेश 2018 में स्पष्ट रूप से दो बिंदुओं को उजागर किया गया है। सबसे पहले, एक तरफ शिक्षकों के वेतन में बढ़ोतरी और दूसरी ओर CPI (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक) + 5% अन्य वस्तुओं पर। वार्षिक शुल्क वृद्धि उस बिंदु पर आधारित है जो भी कम होगा। इस साल वार्षिक शुल्क वृद्धि ज़रूरी है क्योंकि सामान्य वस्तुओ  की कीमतों में बढ़ोतरी आयी है और 2018-19 में हमारे शिक्षकों के वेतन में प्रति व्यक्ति औसत वृद्धि के मामले में 17.02% की वृद्धि हुई है। CPI + 5% संदर्भ बिंदु के तहत अप्रैल 2018 से जनवरी 2019 के औसतन दर 8% है। यह डाटा मार्च २०१९ का है जो की अब बढ़ गया होगा ।

 

कितने अभिभावकों ने नए शुल्क संरचना के अनुसार शुल्क जमा कर दिया है?

65% अभिभावकों ने यह शुल्क पहले से ही जमा कर दिया है। ज्यादातर अभिभावक स्कूल के विज़न को समझते है और यह भी समझते है की स्कूल के आधारिक संरचना और सुविधाएं में निवेश करना होता है। इसमें 432 सीटों का पूरी तरह से वातानुकूल सेण्टर ऑफ़ परफार्मिंग आर्ट्स और रोबोटिक्स में काम और हमारा टेक्नोलॉजी, डिज़ाइन टेक्नोलॉजी एंड अब AI प्रोजेक्ट शामिल है।

 

सिक्योरिटी डिपॉजिट में बढ़ोतरी क्यों हैक्या यह उचित है?

 

सिक्योरिटी डिपॉजिट में बढ़ोतरी नाममात्र हैइस संदर्भ के तहत यू पी आर्डिनेंस भी समग्र वार्षिक शुल्क में, 50% तक कि बढ़ोतरी की अनुमति देता हैलेकिन हमारे केस में यह इस प्रतिशत से भी कम है। ज्यादातर स्कूलों में यह एक टर्म शुल्क या क्वार्टर शुल्क में शामिल है। यहां, जब छात्र स्कूल छोड़ता है तो यह राशि या तो अंतिम बकाया राशि के साथ समायोजित की जाती है या यदि पूरे बकाया राशि का भुगतान किया जाता है, तो ब्याज सहित यह राशि माता-पिता को वापस कर दी जाती है। कुछ मामलों में, छात्र बिना बकाया राशि दिए हुए स्कूल छोड़ देते हैं, ऐसे मामलों में, बकाया राशि को सिक्योरिटी डिपाजिट से समायोजित किया जाता है।

 

कुछ अभिभावक हमारे स्कूल से शुरुआत से जुड़े हैंजब यह सिक्योरिटी डिपाजिट बेहद कम था। इन अभिभावकों से अनुरोध है कि  वर्तमान मानदंडों में इसे शीर्ष करें  यहाँ यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि सभी अभिभावक इसकदम से प्रभावित नहीं हैं। ऐसे कई अभिभावक हैं जिनकी स्कूल के साथ सिक्योरिटी डिपाजिट पहले से ही मौजूदा मानदंडों के हिसाब से जमा हैं  

 

 

इसमें इम्पेस्ट राशि वसूल क्यों कि जा रही है। क्या यह कुछ नया है?

 

हमारे रेसिडेंट विध्यार्तीयों के लिए ये नया नहीं है। हमारे बोर्डर्स ने इस राशि को हमेशा स्कूल में टॉयलेटरीज़किताबों और यूनिफॉर्म जैसी व्यक्तिगत वस्तुओं की खरीद के लिए रखते है। इस साल कुछ स्कूलों में छोटे बच्चों केखिलाफ भयावह घटनाओं को ध्यान में रखते हुए हमने एक नई डिस्पर्सल पॉलिसी को लागू करके परिसर में वयस्क उपस्थिति को प्रतिबंधित करने का निर्णय लियाजिससे मातापिता सहित सभी वयस्क गेट पर अपने वार्ड कोछोड़ने और लेने  सकते है।

 

इस वजह से मातापिता को किताबों की खरीदयूनिफॉर्म या कम मूल्य के इवेंट्स / फंक्शन्स / ट्रिप्स के लिए भुगतान करने के लिए परिसर में प्रवेश करने के लिए थोड़ा प्रतिबंधात्मक लगेगा। हमने इन ही छोटे खर्चों का प्रबंधनकरने के लिए स्कूल में इम्प्रेस्ट अमाउंट बनाए रखा है। डे स्कॉलर्स के पास कैश ले जाने का विकल्प था जो स्कूल प्रबंधन द्वारा प्रेफर नहीं किया गया था।

 

 

Loading...

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.