Greater Noida : हनुमंत कथा के अंतिम दिन उमड़ी श्रद्धालुओ की भीड़, महाप्रसाद वितरण के साथ हुआ समापन

ABHISHEK SHARMA

0 203

Greater Noida : अल्फा 2 एच ब्लॉक ग्रीन बेल्ट में कथा वाचक विजय कौशल जी महाराज की कथा का आज समापन हो गया। कौशल जी महाराज ने आज कथा की शुरुआत सम्पूर्ण हनुमान चालीसा के साथ की। महाराज जी ने ये बताया कि समाज के अंदर ये भ्रांति है कि महिलाओं को हनुमान जी की पूजा नही करनी चाहिये। उनकी मूर्ति का स्पृश नही करना चाहिए।

उन्होंने बताया कि ऐसा किसी भी पुस्तक में नही लिखा है। महिला भी हनुमान जी की आरती या हनुमान चालीसा पढ़ सकती हैं। ये जरूरी नहीं होता कि सिर्फ मंदिर में ही भगवान का नाम लेने से पूजा होती है। मनुस्य किसी भी स्थान पर जाप करले उसी से भगवान की पूजा हो जाती है। कौशल जी महाराज ने बताया धर्म सेवा के साथ साथ मानव सेवा, परिवार सेवा भी करनी चाहिए।

कौशल महाराज जी का कहना है कि भक्त जो ईश्वर की भक्ति में लीन होते हैं, उन्हें भजन करते समय निश्चित ही बेहद आनंददायक नींद आएगी। उनका कहना है कि भगवान का नाम होठों से जपे ताकि आपके आसपास भी भगवान के नाम का संचार हो सके।

वही कौशल महाराज ने हजारों की संख्या में उपस्थित श्रद्धालुओं को कहा कि आज के दौर में परिवार की एकता खत्म होती जा रही है, लोग खुद में व्यस्त होते जा रहे हैं। ऐसे में हमें खुद कदम उठाना होगा सभी लोग घर में एक नियम बनाए जिसके तहत पूरा परिवार शाम को तभी खाना खाए जब सभी लोग घर पर उपस्थित हो। इससे परिवार एक टेबल पर बैठकर एकता की ओर अग्रसर होगा।

कथा के आखिरी दिन आज श्रद्धालुओं की हजारों की संख्या में भीड़ उपस्थित रही। कौशल जी महाराज के भजनों पर भक्तजन थिरकने पर मजबूर हो गए। मानो कथा पंडाल में भक्ति भाव की अमृत धारा बह रही हो। पंडाल में उपस्थित श्रद्धालु होश खोकर सिर्फ महाराज जी की धुन पर नाच रहे थे।

श्रद्धालुओं का ऐसा हुजूम शायद ही कभी पहले ग्रेटर नोएडा में कहीं देखने को मिला हो। अल्फा टू में पहली बार हनुमंत कथा का आयोजन किया गया। मंगलमय परिवार के अध्यक्ष सत्यप्रकाश अग्रवाल का कहना है कि हर जगह श्री राम कथा का वर्णन होता है लेकिन इस बार हमने कुछ हटकर करने की सोची। जिसके तहत अब की बार श्री राम कथा में हनुमंत कथा का भी आयोजन बड़े ही अच्छे ढंग से कराया गया है। इसके लिए पूरी टीम बधाई की पात्र है।

Photo Highlights of Hanumanth Katha in Greater Noida

समापन के दिन कथा में उमेश बंसल,सत्यप्रकाश अग्रवाल,कुलदीप शर्मा, मुकुल गोयल, सौरभ बंसल, पी पी मिश्रा, मोनू जेवर, मनोज गर्ग, मंजीत सिंह, अवधेश पांडेय, ललित शर्मा, के के शर्मा, सतेंद्र राघव, वेद प्रकाश, गौरव उपाध्याय, गिरीश गुप्ता, जितेंद्र त्रिपाठी समेत अन्य लोग मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.