सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों पर बरसे , कहा- किसी को बख्शा नहीं जाएगा

Rohit Sharma

0 239

नई दिल्ली :– दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्राइवेट अस्पतालों को फटकार लगाई है। डिजिटल प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने प्राइवेट अस्पतालों को चेतवानी देते हुए कहा कि आप गलत हरकत कर रहे हैं ।

दिल्ली सीएम ने कहा कि अस्पताल पहले शिकायत करते थे कि बेड नहीं लेकिन ज्यादा कहने पर 20 से 50 हजार की मांग करते थे. उन्होंने कहा ऐसी ही शिकायतों के समाधान के लिए दिल्ली सरकार ने एप लॉन्च की. हमने एप में सारी जानकारी डाल दी कि कहां बेड खाली हैं और कहां नहीं लेकिन लोग ऐसे टूट पड़े जैसे कि हमने यह जानकारी देकर गड़बड़ी कर दी।

न्यूज चैनल का हवाला देते हुए सीएम ने कहा कि एक न्यूज एंकर लाइव कार्यक्रम में प्राइवेट अस्पताल को फोन करता है, अस्पताल उसे कहता है कि दाखिले के एवज में पैसों की मांग करता है. सीएम के अनुसार कुछ लोगों ने माफिया बनाया हुआ था उसको तोड़ने में थोड़ा समय लग रहा है. कुछ चंद अस्पताल इतने ताकतवर हो गए हैं कि उनकी सभी पार्टियों में पहुंच है।

वह कह रहे हैं कि हम मरीज नहीं लेंगे तो मैं कह रहा हूं कि मरीज तो लेने पड़ेंगे आपको. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि आपको सस्ती दर पर जमीन इसलिए दी गई थी ताकि आप जनता की सेवा करें ।

अरविंद केजरीवाल ने प्राइवेट अस्पतालों से सख्त लहजे में कहा कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा, इस गुमान में मत रहना कि दूसरी पार्टी में बैठा कोई नेता आपका आका आपको बचा लेगा. कल से हम एक-एक अस्पताल के मालिक को बुला रहे हैं सब से पूछा जा रहा है।

अस्पतालों को कहा गया है कि 20 सीसी बेड रिजर्व करो. उन्होंने कहा कि कुछ अस्पतालों की समस्या सही होती है, हम उसको मान लेते हैं. लेकिन कोरोनावायरस जो का इलाज करना पड़ेगा इसमें कोई समझौता नहीं होगा. मुझे खुशी है कि न्यूज़ चैनल वाले और अखबार वाले 11 अस्पताल को फोन करके पूछ रहे हैं कि बेड है या नहीं, इससे फायदा भी हो रहा है।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर यह अस्पताल नहीं माने तो हम सख्त कार्यवाही करने से हिचकीचाहएंगे नहीं. एक दिल्ली सरकार का प्रोफेशनल अस्पताल के अंदर मौजूद रहेगा जो जानकारी देगा कि बेड हैं या नहीं. अगर कोई संदिग्ध मरीज अस्पताल जाता है तो उसको टेस्ट कराने को बोलते हैं. अब हम आदेश निकाल रहे हैं कि किसी भी संदिग्ध को कोई अस्पताल मना नहीं करेगा।

उन्होंने साफ किया कि किसी भी संदिग्ध मरीज को मना नहीं किया जाएगा और अस्पताल खुद उस मरीज का टेस्ट कराएगा और जैसा भी नतीजा होगा उस हिसाब से उसको इलाज दिया जाएगा।

उन्होंने मीडिया में चल रही रिपोर्ट्स का हवाला देकर कहा कि कुछ लोग मीडिया में चला रहे हैं कि दिल्ली में टेस्टिंग बंद हो गई है. सीएम केजरीवाल के अनुसार 6 ने बदमाशी की तो उन पर कार्रवाई की गई।

सभी सरकारी अस्पतालों और प्राइवेट अस्पतालों ने भी फ्लू क्लीनिक बनाए हैं जहां पर टेस्ट हो रहे हैं. इसके अलावा दिल्ली सरकार के 17 सेंटर है जहां टेस्ट हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा टेस्ट दिल्ली में हो रहे हैं. हमारी प्राथमिकता लोगों को बचाने की है. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर सभी बिना लक्षण वाले लोग अपने टेस्ट कराने पहुंच जाएंगे तो सिस्टम धराशाई हो जाएगा. बिना लक्षण वाले और हल्के लक्षण वाले लोग तो ठीक हो ही जाएंगे ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.