दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का बयान , आज और बढ़ेगी कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या, अभी तक 700 मरीज मिले 

Rohit Sharma

0 158

नई दिल्ली (02/04/2020) :– दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने आज बताया कि COVID-19 के संभावित रूप से संक्रमित और पुष्टि किए गए कुल 700 मरीज दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं।

सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में बुधवार शाम तक कोरोना वायरस के 152 केस हैं , इसमें से 53 केस मरकज के हैं। दिल्ली में कल 32 लोगों का आंकड़ा बढ़ा है, जिसमें 29 लोग निजामुद्दीन में तबलीगी जमात कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

साथ ही उन्होंने कहा कि दिल्ली में अभी 700 के करीब कोरोना पॉजिटिव और संदिग्ध मामले हैं , आज भी काफी लोगों की रिपोर्ट आएगी, जिसके बाद मामले और बढ़ने की आशंका है , इनमें मरकज के लोग ही ज्यादा हैं।

सत्येंद्र जैन ने बताया कि दिल्ली सरकार ने डॉक्टर और हेल्थ केयर स्टाफ के लिए परिवारों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए पूर्वी दिल्ली में होटल लीला को बुक कर लिया है। इसमें गुरु तेग बहादुर अस्पताल और राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल के मेडिकल स्टाफ के लिए यहां ठहरने की व्यस्था होगी।

जैन ने कहा कि हम पूरे स्टाफ के लिए हम पांच सितारा होटल ताज से कैटरिंग करवा रहे हैं। मैं आपको बताना चाहता हूं कि ताज वाले मुफ्त में पूरी कैटरिंग करने को तैयार हो गए हैं , वो मरीजों को भी मुफ्त में खाना देंगे।

बाड़ा हिंदू राव अस्पताल से डॉक्टर और नर्सों के रिजाइन करने की खबरों पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि एमसीडी के किसी भी अस्पताल को अभी कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के काम में नहीं लगाया गया है। वह पहले से ही परेशान हो रहे हैं। दिल्ली सरकार के अस्पताल ही कोरोना का इलाज कर रहे हैं। वहां के डॉक्टर और नर्सों ने ऐसा कुछ नहीं कहा है। यह तो युद्ध का समय है। युद्ध के समय पर युद्ध से पहले ही आप ऐसी बात कर रहे हैं। हो सकता है यह अफवाह भी हो।

बता दें कि, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, बीते 12 घंटों में कोरोना वायरस के मामलों में 131 की बढ़त हुई है। इसके साथ ही भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर 1965 हो गई है। इनमें 1764 लोग अभी संक्रमित हैं, जबकि 151 के ठीक होने के बाद उन्हें अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है और 50 मौतें शामिल हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.