लॉकडाउन : नवरत्न फॉउण्डेशन्स का अमूल्य योगदान,  मजदूरों को राशन बाटने से लेकर घर पहुंचाने तक दे रही है हरसंभव मदद

ROHIT SHARMA

0 574

नोएडा :– वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को लेकर के लिए सरकार ने 21 दिन के लिए देशव्यापी लॉकडाउन किया है | आपको बता दे कि आज लॉकडाउन के पाँचवे दिन देशभर में मजदूरों का अपने-अपने घर के लिए पलायन एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आई |

navratan-foundation-distributes-ration-to-daily-wage-workers
navratan-foundation-distributes-ration-to-daily-wage-workers

लॉकडाउन के बीच सभी लोग घरों में कैद होने पर मजबूर है  , कोरोना वायरस की जंग में प्रत्येक हिन्दुस्तानी लड़ रहा है। इस बीच नोएडा की मशहूर संस्था नवरत्न फॉउण्डेशंस जरुरतमंद लोगों की मदद करके मिसाल कायम कर रही है।

नोएडा में अलग-अलग तस्वीरें आईं है, जिसमें साफ तौर पर दिखा है कि कैसे नवरत्न फॉउण्डेशन्स के साथ जुडी शहीद भगत सिंह सेना संस्था के कार्यकर्ताओं ने घरों में जाकर लोगों को राशन बांट रही है। यही नहीं रास्ते में फंसे लोगों को उनके घर पहुंचाने में पूरी मदद भी कर रही है।

 

आपको बता दे कि नोएडा की नवरत्न फॉउण्डेशन्स संस्था ने लॉकडाउन में फसे दिनदहाडी मजदूरों के लिए सत्यार्थ मुहीम चलाई है , वही इस प्रोजेक्ट के संयोजक कर्नल अमिताभ अमित है , जिनकी निगरानी में अब तक 330 परिवारों को राशन दिया जा चूका है |

खासबात यह है की इस राशन को बाटने के लिए नोएडा की शहीद भगत सिंह सेना के कार्यकर्त्ता आगे आए है , जिन्होंने दिन से लेकर शाम तक सभी मजदूरों को राशन उपलब्ध कराया है |  खासबात यह है कि नोएडा में बहुत से परिवारों की सूची बनाई जा रही है , जिसके पास खाने के लिए राशन नहीं है |

 

वही इस मामले में टेन न्यूज़ की टीम ने टेलीफोन के माध्यम से नवरत्न फॉउण्डेशन्स के अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव से जानकारी ली | उन्होंने बताया की लॉकडाउन में फसे दिनदहाडी मजदूरों के पास राशन नहीं है , मजदूरों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है |

 

जिसको लेकर नवरत्न फॉउण्डेशन्स ने सोचा की आखिर इन सभी लोगों की कैसे सहायता की जाए |  जिसके बाद सत्यार्थ मुहीम चलाई गई  , इस प्रोजेक्ट के संयोजक कर्नल अमिताभ अमित के नेतृत्व में अब तक 330 परिवारों को राशन दिया जा चूका है |

 

साथ ही उन्होंने कहा की करीब 2 लाख से ज्यादा का राशन बट चूका है , अगर हमारे पास फण्ड आता रहेगा तो आगे भी ये मुहीम चलती रहेगी |

Leave A Reply

Your email address will not be published.