बिना अनुमति के हो रही धार्मिक आयोजनों पर प्रशासन के बाद ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण हुआ सख्त , लगाई रोक

Talib Khan / Rohit Sharma

0 197

Noida, (26/12/2018): गौतमबुद्ध नगर में बिना अनुमति में चल रही धार्मिक आयोजनों पर प्रशासन और प्राधिकरण सख्त नज़र आ रहा है | आपको बता दे की नोएडा के सार्वजानिक पार्को में बिना अनुमति के हो रहे धार्मिक कार्यक्रमों पर प्रशासन ने कड़ा रुख अपनाते हुए कंपनियों को नोटिस जारी कर चूका है | जिसके तहत बिना अनुमति के कोई भी धार्मिक कार्यक्रम सार्वजानिक पार्को में नहीं हो सकेगा | वही आज ग्रेटर नोएडा के सेक्टर 37 में बिना अनुमति के भागवत कथा का कार्यक्रम आयोजित किया गया |

वही इस मामले में ग्रेटर नोएडा के सेक्टर 37 में बिना अनुमति लिए चल रही भागवत कथा को आज प्राधिकरण के दस्ते ने रुकवा दिया । यहाँ पर आज सुबह प्राधिकरण अधिकारियों को सूचना मिली थी कि सरकारी जमीन पर भागवत कथा करने के लिए टेंट लगाया गया है और इसके बाद मूर्ति स्थापना की जाएगी ।

सूचना मिलने के बाद यहाँ अतिक्रमण हटाने वाला दस्ता पहुँचा और उसने कथा रुकवा कर टेंट उखाड़ कर फेंके । जिसके बाद बवाल शुरू हो गया , कुछ लोगों ने विरोध किया लेकिन पुलिस फोर्स आने के बाद सब शांत हो गए। प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना है कि बिना अनुमति के सरकारी जमीन पर किसी भी तरह का आयोजन नही किया जा सकता है । यदि कोई भी व्यक्ति करता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि प्रशासन ने बिना अनुमति के धार्मिक आयोजनों पर सख्त रूप अपनाया है । ग्रेटर नोएडा में नोएडा जैसे हाल न हो इसलिए अधिकारी पहले से ही सतर्क ही गए है ।

यह जो तस्वीरों में आप पंडाल देख रहे हैं यहां पर भागवत कथा का आयोजन होना था। यह जो लेबर पंडाल के सामान को ट्रैक्टर में भरकर ले जा रहे हैं और जो प्राधिकरण का दस्ता ने भागवत कथा के पंडाल को ध्वस्त कर दिया है। सेक्टर के लोगों ने यहां पर कुछ समय पहले मूर्तियों की भी स्थापना की थी लेकिन प्राधिकरण नहीं चाहता कि यहां पर लोग किसी तरह की धार्मिक गतिविधि करें |

वही प्राधिकरण के अधिकारियो द्वारा पंडाल ध्वस्त करने को लेकर लोगों ने विरोध करना शुरू कर दिया , जिसको देख मौके पर पुलिस बल तैनात किया गया | खासबात यह है की जिला प्रशासन के बाद अब प्राधिकरण ने भी अपना रुख साफ कर दिया है की बिना अनुमति के कोई भी धार्मिक कार्यक्रम सरकारी ज़मीन पर नहीं हो सकते है |

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.